वेंकैया ने पाकिस्तान को चेताया, 1971 को न भूले

नई दिल्ली: एनडीए उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार वेंकैया नायडू ने आतंक के पनाहगार पाकिस्तान को कड़े शब्दों में चेतावनी दी है। नायडू ने रविवार को कहा, ‘आतंकवाद मानवता का दुश्मन है और इसका कोई धर्म नहीं होता है। हमारे पड़ोसियों को समझना चाहिए कि आतंकवाद को बढ़ाना देने से कोई मदद नहीं मिलने वाली है। न तो ये किसी समस्या का समाधान है। उन्हें याद रखना चाहिए कि 1971 में लड़ाई में क्या हुआ था।’ नायडू ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि आतंकवाद पाकिस्तान की नीति बन गया है।

उन्होंने कहा कि हमें पड़ोसियों के साथ मतभेद स्वीकार हैं, लेकिन अलगाव को स्वीकार नहीं करेंगे। गौरतलब है कि अगले माह 5 अगस्त को होने वाले उपराष्ट्रपति के चुनाव के लिए एनडीए ने वेंकैया नायडू को उम्मीदवार बनाया है। उनका मुकाबला विपक्ष के उम्मीवार और महात्मा गांधी के परपौत्र गोपाल कृष्ण गांधी से होगा। उपराष्ट्रपति का उम्मीदवार बनने से पहले वेंकैया केंद्र की मोदी सरकार में शहरी विकास और सूचना एवं प्रसारण मंत्री के पद पर थे।

उल्लेखनीय है कि 1971 में पाकिस्तान ने युद्ध के मैदान में भारत के हाथों कड़ी शिकस्त झेलनी पड़ी थी। इसी युद्ध का परिणाम है कि पूर्वी पाकिस्तान का बांग्लादेश के रूप में उदय हुआ। पाकिस्तानी सेना के एक लाख से ज्यादा सैनिकों ने भारतीय सेना के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया था। उल्लेखनीय है कि हाल ही में पाकिस्तान ने 21 जुलाई शुक्रवार को जम्मू कश्मीर के राजौरी जिले में नियंत्रण रेखा पर संघर्ष विराम का उल्लंघन करते हुए भारत की चौकियों पर गोलीबारी की।

गोलाबारी में सेना का एक जवान शहीद हो गया था। इस महीने पाकिस्तान ने 18 बार संघर्ष विराम का उल्लंघन किया है जिसमें नौ जवानों समेत 11 लोगों की मौत हो गई और 18 लोग घायल हुए हैं।संघर्ष विराम का उल्लंघन पर रक्षा प्रवक्ता ने बताया था कि पाकिस्तान ने शाम करीब छह बजे सुंदरबनी सेक्टर में भारतीय सेना की चौकियों पर बिना उकसावे के गोलीबारी की।

सेना ने मजबूती और प्रभावी तरीके से इसका जवाब दिया। पाकिस्तान की तरफ से लगातार सीमा पर सीज फायर का उल्लंघन हो रहा है। साथ ही घुसपैठ की भी कई  वारदात लगातार सामने आ रही हैं। 8 और 9 जुलाई को भी पुंछ सेक्टर में पाकिस्तानी सेना ने सीजफायर का उल्लंघन किया था। वहीं 18 जुलाई को ही गुरेज सेक्टर में भी सेना ने घुसपैठ की एक कोशिश नाकाम करते हुए दो आतंकियों को मार गिराया था।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.