अफगानिस्तान में आत्मघाती विस्फोट, 35 लोग की मौत, 42 घायल

काबुल: अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में सोमवार सुबह हुए आत्मघाती कार बम हमले में 35 लोग मारे गए जबकि 40 से ज्यादा घायल हुए हैं। हमले की जिम्मेदारी तालिबान ने ली है। हाल के महीनों में काबुल में हुआ यह सबसे बड़ा आतंकी हमला है। घटना अफगानिस्तान सरकार के उप मुख्य कार्यकारी अधिकारी मुहम्मद मुहाकिक के आवास के नजदीक की है।

इस इलाके में ज्यादातर शिया हजारा समुदाय के लोग रहते हैं। कार बम हमले में सरकारी कर्मचारियों को निशाना बनाया गया। तालिबान के दावे के अनुसार मारे गए लोग सरकार के खुफिया विभाग से संबंधित थे। उनकी दो बसों पर कई महीने से नजर रखी जा रही थी और मौका मिलते ही उन्हें निशाना बनाया गया। जबकि सरकार की ओर से कहा गया है कि खान मंत्रालय की कर्मचारियों को ले जा रही बस निशाना बनी है।
खुफिया एजेंसी नेशनल डायरेक्ट्रेट फॉर सिक्यूरिटी ने कहा है कि हमले में उसका कोई कर्मचारी नहीं मारा गया है। घटना में नजदीक चल रहे तीन वाहन और पास की 15 दुकानें बर्बाद हो गई हैं। हमले में बाल-बाल बचे दुकानदार अली अहमद ने बताया कि जैसे ही वह दुकान खोलकर बैठे-वैसे ही उन्होंने एक जोरदार धमाका सुना। धमाके के साथ ही उनकी दुकान के शीशे टूट गए और सामान जमीन पर बिखर गया। सुरक्षा बलों ने इलाका घेर लिया है और घरों की तलाशी शुरू हो गई है। अफगानिस्तान में हुए आतंकी हमलों में इस साल 1,700 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं।
ज्यादातर हमलों में पाकिस्तान समर्थित तालिबान का हाथ रहा है। दो हफ्ते पहले काबुल की एक मस्जिद में आतंकी संगठन आइएस ने बम विस्फोट का दावा किया। घटना में चार लोग मारे गए थे। सुरक्षा बलों और नाटो की सेनाओं ने भी इन दिनों देश के कई इलाकों में तालिबान और आइएस के खिलाफ अभियान छेड़ रखा है। फारयाब प्रांत में रविवार को दर्जनों तालिबान लड़ाके गिरफ्तार किये गए हैं।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.