अजमेर दरगाह के बुलंद दरवाजे पर लगा ईरान का नायाब तोहफा

अजमेर:  विख्यात सूफी संत हजरत ख्वाजा मोईनुद्दीन हसन चिश्ती का 805 वां उर्स कुछ दिनों में शुरू होने जा रहा है। 805 वें उर्स के मौके पर देश विदेश से लाखों जायरीन अपनी मन्नतें और मुरादें मांगने आते हैं। लोग अपने अकीदे के अनुसार दरगाह में नजराने पेश करते हैं। ईरान सरकार ने भी बारगाह ख्वाजा में एक नायाब तोहफा पेश किया है। यह तोहफा दरगाह के बुलंद दरवाजे पर लग चुका है। इसका लोकार्पण 26 मार्च को केन्द्रीय अल्पसंख्यक मामलात मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी करेंगे। , माना जा रहा है कि ईरान सरकार द्वारा पेश किए गए इस नायाब तोहफे से भारत और ईरान के रिश्ते और बेहतर होंगे। इसमें खास बात ये है कि इसमें ख्वाजा गरीब नवाज की शान में अशआर लिखे हैं। शाह अस्त हुसैन, बादशाह अस्त हुसैन, दीन अस्त हुसैन, दीन पनाह अस्त हुसैन लिखा है, जो दरगाह आने वाले जायरीन के लिए आकर्षण का केन्द्र बना है। हजरत ख्वाजा मोईनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह में हर रोज कार्यक्रम होते रहते हैं और यहां आने वाले जायरीन इन कार्यक्रमों में शिरकत करते हैं।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.