भारत देगा भूटान की पंचवर्षीय योजना में 4,500 करोड़ रुपये का योगदान

नई दिल्ली: भारत ने शुक्रवार को घोषणा की कि वह भूटान की 12वीं पंचवर्षीय योजना में 4,500 करोड़ रुपये का योगदान देगा। यह घोषणा यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके भूटान के समकक्ष लोटे शेरिंग के बीच हुई प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता के बाद की गई, जिसमें हिमालयी राजशाही में विभिन्न जलविद्युत परियोजनाओं की प्रगति की भी समीक्षा की गई। मोदी ने बैठक के बाद शेरिंग के साथ मीडिया को संयुक्त प्रेस वक्तव्य जारी करने हुए कहा, ”मैंने प्रधानमंत्री को आश्वस्त किया कि भारत, भूटान के विकास में एक विश्वस्त सहयोगी और भागीदार की भूमिका निभाता रहेगा।” उन्होंने कहा, ”भारत, भूटान की 12वीं पंचवर्षीय योजना में 4,500 करोड़ रुपये का योगदान देगा। यह योगदान भूटान की जरूरतों और प्राथमिकताओं के हिसाब से किया जाएगा।” भूटान की 12वीं पंचवर्षीय योजना साल 2018 से 2023 तक चलेगी।

मोदी ने कहा कि शेरिंग ने जिस ‘नैरोइंग द गैप’ विजन का उल्लेख किया है, वह उनके ‘सबका साथ, सबका विकास’ के विजन से मेल खाता है।उन्होंने कहा कि जलविद्युत परियोजनाओं का विकास भारत द्वारा की जा रही लंबे समय से भूटान की मदद का महत्वपूर्ण हिस्सा है। मोदी ने कहा, ”आज हमने हमारी मदद द्वारा चलाई जा रही सभी महत्वपूर्ण क्षेत्रों की परियोजनाओं की समीक्षा की।” उन्होंने कहा कि भूटान में 720 मेगावॉट की मंगडेछु जलविद्युत परियोजना जल्द ही पूरी हो जाएगी। उन्होंने कहा कि इस परियोजना से पैदा होनेवाली बिजली के टैरिफ को लेकर दोनों देशों में सहमति है।

उन्होंने भूटान द्वारा भारत के रुपे कार्ड को जल्द ही अपने यहां लांच करने के फैसले का स्वागत किया तथा कहा कि इससे दोनों देशों के लोगों के बीच संपर्कों को बढ़ावा मिलेगा। वहीं, शेरिंग ने कहा कि भारत-भूटान राजनयिक संबंधों के स्वर्ण-जयंती वर्ष पर होने वाली उनकी यात्रा का मुख्य उद्देश्य द्विपक्षीय संबंधों को और अधिक ऊंचाइयों तक ले जाना है।उन्होंने पंचवर्षीय योजना के लिए भारत द्वारा दी जाने वाली मदद की सराहना की और कहा कि इससे भारत द्वारा लागू किए गए वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के कारण प्रभावित हुए व्यापारियों को मदद मिलेगी। उन्होंने मोदी को कुछ ही महीनों में पूरा होने वाले मंगडेछु परियोजना के उद्घाटन के लिए भूटान आने का आमंत्रण दिया। शेरिंग शुक्रवार को भारत की तीन दिवसीय यात्रा पर आए हैं, जो कि अक्टूबर में पद संभालने के बाद उनकी पहली आधिकारिक यात्रा है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.