जयपुर सिलसिलेवार बम धमाके के दोषियों को फांसी की सजा

राजस्थान: जयपुर में साल 2008 में हुए बम धमाके के चारों दोषियों को फांसी की सजा सुनाई गई है। यह फैसला 11 साल और सात महीने बाद आया है। विशेष कोर्ट के जज अजय कुमार शर्मा ने यह फैसला सुनाया। राजस्थान के जयपुर में सिलसिलेवार धमाके में 70 लोगों की मौत हो गई थी और 185 लोग घायल हुए थे। बता दें कि 13 मई 2008 को जयपुर में आठ जगहों पर बम धमाके हुए  थे। पहला धमाका चांदपोल हनुमान मंदिर और उसके बाद दूसरा सांगानेरी गेट हनुमान मंदिर पर हुआ था। इसके बाद बड़ी चौपड़, जोहरी बाजार, छोटी चौपड़ और तीन अन्य स्थानों पर धमाके हुए थे। कोर्ट ने सभी चार दोषियों – सरवर आज़मी, मोहम्मद सैफ, सैफुर रहमान और सलमान को मौत की सजा सुनाई है।

इस मामले में सबसे पहले अगस्त 2008 में शहबाज हुसैन को गिरफ्तार  किया गया था। फिर दिसंबर 2008 और दिसंबर 2010 के बीच, मोहम्मद सैफ, मोहम्मद सरवर आजमी, मोहम्मद सलमान, और सैफुर रहमान को गिरफ्तार किया गया।बुधवार (17 दिसंबर,2019) को सैफ, सरवर आजमी, सलमान और सैफुर्रिहमान को दोषी ठहराया गया था। 20 दिसंबर को उनकी सजा पर बहस करने के बाद फांसी की सजा मुकर्रर की गई। शहबाज हुसैन पर उस ईमेल को भेजने का आरोप था जिसने हमले की जिम्मेदारी का दावा किया था। सबूतों के आभाव में उसे बरी कर दिया गया।

अदालत ने चार आरोपियों को भारतीय दंड संहिता की धारा 302, 307,324, 326, 120 बी, 121ए और 124 ए, 153 ए के तहत दोषी माना है। इसके अलावा विस्फोट पदार्थ अधिनियम की धारा तीन के तहत तथा विधि विरूद्ध क्रियाकलाप अधिनियम की धारा 13, 16, 1 ए और 18 के तहत भी उन्हें दोषी ठहराया है। बम धमाके के बाद राज्य सरकार की सिफारिश पर उच्च न्यायालय ने मामले की सुनवाई के लिए विशेष अदालत गठित की थी। इन पांच के अलावा विस्फोट मामले में आरोपी शादाब, मोहम्मद खालिद व साजिद अब भी फरार हैं जबकि दो आरोपी मोहम्मद आतिफ व छोटा साजिद सितंबर 2008 में दिल्ली के बाटला हाउस मुठभेड़ में मारे गए थे।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.