भीड़ ने कानून को लिया अपने चपेट, गत 1 माह में कई लोगों की मौत

रांची:  देश के पूर्वी भाग में स्थित झारखंड में इन दिनों भीड़ का भयावह चेहरा देखने को मिल रहा है। हाल के दिनों में पूरे प्रदेश में भीड़ द्वारा कानून को हाथ में लिए जाने की कई घटनाएं देखने को मिली हैं।   गत माह के सात जून को पलामू जिले के रेहला थाना के गुरहा गांव में विधवा से बलात्कार के आरोप में  एक व्यक्ति की ग्रामीणों ने पीट-पीटकर हत्या कर दी। वहीं, 29 जून को दुमका के रामगढ़ गांव में आठ साल की बच्ची के साथ रेप और हत्या के आरोप में ग्रामीणों ने मिथुन हांसदा की हत्या कर दी।

29 जून को रामगढ़ में बीफ ले जाने के शक में वैन चालक पर हमला किया गया, जिसकी अस्पताल ले जाने के क्रम में मौत हुई। 27 जून को गिरिडीह के देवरी थाना क्षाना क्षेत्र के बैरिया पंचायत के बरवाबाद में एक घर के समीप मृत मवेशी देखकर भीड़ ने आरोपी को पीट-पीटकर अधमरा कर दिया। बाद में घर में आग लगा दी।  आठ जून को गुमला के तरी क्षेत्र में एक छात्रा से छेड़खानी के आरोप में एक युवक पंचू गोप की हत्या कर दी गई। इस हत्या के बदले में पंचू गोप के गांव के लोगों ने छात्रा को घर से खींचकर निकाला और उसकी हत्या कर दी। 27 जून को ही पलामू के हरिहरगंज थाना क्षेत्र के खड़गपुर में ग्रामीणों ने गांव के ही एक अधेड़ को उसकी खुद की विवाहिता बेटी के साथ रेप और हत्या के मामले में पीटा।

गौरतलब हो कि कभी बच्चा चोरी तो कभी बीफ मामले में तो कभी डायन करार देकर   या किसी अन्य अपराध में बेकाबू भीड़ द्वारा सजा देने की घटना झारखंड में काफी बढ़ गई है। जिसके कारण लोगों में दहशत का माहौल है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.