ई-रिक्शा का पंजीयन कराने के लिए लाइसेंस जरूरी

इलाहाबाद: ई-रिक्शा की बिक्री और पंजीयन पर रोक हटने के पश्चात अब ई-रिक्शा लाइसेंस बनवाने को चालकों को नोटिस जारी हो रहा है। आरटीओ ने 889 ई-रिक्शा चालकों को नोटिस जारी किया है। ई-रिक्शा का पंजीयन कराने के लिए लाइसेंस होना आवश्यक है।ई-रिक्शा की बिक्री और पंजीयन पर लंबे समय से रोक लगे होने के कारण इसके चालक रजिस्ट्रेशन कराने के लिए परेशान थे, बिना रजिस्ट्रेशन के ई-रिक्शा चलाना परेशानी का सबब था।

जिलाधिकारी संजय कुमार ने 31 अगस्त को रोक हटा दिया, लेकिन अब यह समस्या खड़ी हो गई है कि बिना लाइसेंस के ई-रिक्शा का पंजीयन नहीं हो सकता है। शहर में मात्र 98 लोगों के पास ही ई-रिक्शा चलाने का लाइसेंस है। बाकी लोग गाड़ी चलाने वाले लाइसेंस से ई-रिक्शा चला रहे हैं, जोकि नियम के विरुद्ध है। इसको चलाने के लिए अलग से लाइसेंस बनता है। एक सर्वे रिपोर्ट के मुताबिक शहर में लगभग तीन हजार ई-रिक्शा हैं।

इसमें से लगभग 900 रिक्शों का रोक लगने से पहले जल्दबाजी में पंजीयन हो गया था, लेकिन उनके चालकों के पास लाइसेंस नहीं था। रोक हटने पर पंजीयन अधिकारी डॉ. आरएन चौधरी, मोटर वाहन विभाग ने 889 लोगों को लाइसेंस बनवाने के लिए नोटिस जारी किया है। उन्हें शीघ्र लाइसेंस बनवाने का सुझाव दिया गया है।

आरटीओ सगीर अंसारी का कहना है कि बिना लाइसेंस के ई-रिक्शा का पंजीयन नहीं हो सकता है। जिन लोगों ने रोक से पूर्व ई-रिक्शा का पंजीयन करा लिया था। उन्हें लाइसेंस बनवाने के लिए नोटिस भेजा जा रहा है। जो ई-रिक्शा चालक अपना लाइसेंस नहीं बनवाएगा, उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.