छह से 18 वर्ष के 83.5 प्रतिशत बच्चे सोशल मीडिया पर

नयी दिल्ली: स्मार्टफोन पर हाई स्पीड में इंटरनेट चलने के साथ ही ब्रांडबैंड के घरों तक पहुंचने से देश के शहरी क्षेत्रों के 99 फीसदी बच्चे इंटरनेट का उपयोग करते हैं और छह से 18 वर्ष आयु वर्ग के 83.5 प्रतिशत बच्चे सोशल मीडिया पर भी सक्रिय हैं।

दूरसंचार सेवायें देने वाली कंपनी टेलीनॉर इंडिया की वैबवाइज़ सर्वेक्षण रिपोर्ट में यह खुलासा करते हुये कहा गया है कि अधिकांश बच्चे अपने सोशल अकांउटों के लिए कमजोर पासवर्ड का उपयोग करते हैं जिससे वे हैकिंग के भी शिकार होेते हैं। देश के 13 शहरों के 2,700 बच्चों ने इस सर्वेक्षण में भाग लिया है।

इसमें कहा गया है कि शहरों में 98.8 प्रतिशत बच्चे इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं और 54.6 प्रतिशत बच्चे कमजोर पासवर्ड का इस्तेमाल करते हैं, यानी ऐसा पासवर्ड जिसमें केवल ऐल्फाबेट अथवा नंबर होते हैं और वह भी आठ से कम। इसके अतिरिक्त 54.82 प्रतिशत बच्चे अपना पासवर्ड अपने दोस्तों, परिवार या संबंधियों के साथ साझा करते हैं और इस प्रकार अपनी डिजिटल सुरक्षा को जोखिम में डालते हैं।

रिपोर्ट के अनुसार, छह से 18 वर्ष के 83.5 प्रतिशत बच्चे सोशल मीडिया पर सक्रिय हैं। 35 प्रतिशत से अधिक बच्चों ने अकाउंट हैक होने का अनुभव किया है जबकि 15.74 प्रतिशत बच्चों को सोशल मीडिया पर अनुचित संदेश प्राप्त हुये हैं।
सोशल मीडिया को लेकर बच्चों के लिए वैबवाइज कार्यशालयें आयोजित की गयीं जिनमें भाग लेने के बाद 81.9 प्रतिशत बच्चों ने कहा कि वे अपना पासवर्ड बदलने के बारे में विचार करेंगे और 84.26 प्रतिशत बच्चों ने माना कि वे अपना पासवर्ड अपने माता-पिता के अलावा और किसी को नहीं बताएंगे। 72.26 प्रतिशत बच्चों ने कहा कि वे ऐल्फाबेट, नंबर, स्मॉल तथा कैपिटल लैटर, सिम्बल या स्पेशल कैरेक्टरों का इस्तेमाल करते हुए एक मजबूत पासवर्ड बनाएंगे।

कंपनी के यूपी वेस्ट सर्किल के कारोबार प्रमुख अनिल कुमार ने कहा कि इंटरनेट इस्तेमाल करने वालों की तादाद के मामले में भारत दुनिया में दूसरे नंबर पर है और देश में इंटरनेट प्रयोक्ता, खासकर बच्चे, कमजोर या आसानी से अंदाजा लगाए जा सकने वाले पासवर्ड के चलते साइबर खतरों के जोखिम में पड़ जाते हैं। उन्होंने कहा कि उनकी कंपनी वैबवाइज़ जैसे उत्पादों के जरिए अगली पीढ़ी के इंटरनेट प्रयोक्ताओं को जागरूक एवं शिक्षित कर एक सशक्त डिजिटल समाज बनाने का काम कर रही है। बच्चों को इंटरनेट उपयोग करते समय साइबर खतरों से निपटने के बारे में भी बताया जा रहा है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.