सोनभद्र हत्याकांड में 24 लोग गिरफ्तार

सोनभद्र: उत्तर प्रदेश के सोनभद्र में घोरावल तहसील के उभ्भा गांव में जमीन पर कब्जे को लेकर हुए हत्याकांड में पुलिस ने 24 लोगों को गिरफ्तार किया है। मामले में 28 लोग नामजद और 50 अज्ञात के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज है। पुलिस अधीक्षक सलमान ताज पाटिल ने बताया कि इस मामले में ग्राम प्रधान के भतीजे समेत 24 लोग गिरफ्तार किए जा चुके हैं। मुख्य आरोपी प्रधान अभी फरार है। वांछितों की धरपकड़ तेज कर दी गई है। 50 अज्ञात लोगों के खिलाफ भी अभियान तेज कर दिया गया है। गांव के लल्लू सिंह की तहरीर पर पुलिस ने मुख्य आरोपित ग्राम प्रधान यज्ञदत्त और उनके भाइयों समेत सभी पर हत्या और (अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति अधिनियम) एससी-एसटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया है। इन सभी आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की टीम बनाकर संभावित स्थानों पर दबिश दी जा रही है।

पुलिस ने बताया कि उसने हत्याकांड में इस्तेमाल दो हथियार भी बरामद कर लिए हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) ओ.पी. सिंह को मामले पर नजर बनाए रखने का निर्देश दिया था। मुख्यमंत्री योगी ने घटना का संज्ञान लेते हुए मिर्जापुर के मण्डलायुक्त तथा वाराणसी जोन के अपर पुलिस महानिदेशक को घटना के कारणों की संयुक्त रूप से जांच करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने लापरवाही सामने आने पर जिम्मेदारी तय करते हुए 24 घंटे में रिपोर्ट पेश करने के आदेश दिए हैं। योगी ने इस घटना में मारे गए लोगों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपये की सहायता का एलान किया है।

पुलिस के मुताबिक, उभ्भा गांव में दो पक्षों के बीच वर्षों से जमीन का विवाद चल रहा है। गांव के प्रधान ने दो साल पहले 100 बीघा जमीन खरीदी थी, जिस पर वह सहयोगियों के साथ कब्जा करने के लिए गए थे, बुधवार को दिन में 11 बजे ग्राम प्रधान यज्ञदत्त गुर्जर और करीब दो सौ अन्य लोग 32 ट्रैक्टरों पर सवार होकर विवादित जमीन पर पहुंचे, जहां उन्होंने खेत की जुताई शुरू करा दी। इस पर दूसरे पक्ष के लोगों ने इसका विरोध किया। तभी प्रधान के साथ आए लोग वहां स्थित दूसरे पक्ष के लोगों पर गोलीबारी करने लगे, जिससे सात लोगों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई थी।

प्रधान पक्ष के बाकी लोग लाठी डंडों और फावड़े लेकर टूट पड़े। दूसरे पक्ष ने भी मुकाबला करते हुए पथराव किया। सूचना पाकर कई थानों की पुलिस और पुलिस अधीक्षक (एसपी) भी पहुंच गए। डीजीपी ने कहा कि इस मामले में 10 लोगों की मौत हो चुकी है। उन्होंने कहा कि उभ्भा गांव के प्रधान ने दो साल पहले यह जमीन खरीदी थी, जिस पर वह सहयोगियों के साथ कब्जा करने के लिए गए थे, जब ग्रामीणों ने इसका विरोध किया तो उन पर गोलीबारी कर दी। ग्राम प्रधान के भतीजों सहित 24 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

 

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.