सूबे में आधे से अधिक शराब की दुकानें 31 को बंद

रांची: सूबे में 31 मार्च को आधे से अधिक शराब की दुकानें बंद हो जायेगी। राज्य में तकरीबन 1432 देशी-विदेशी शराब की दुकानें हैं। इनमें से अधिकांश दुकानें राष्ट्रीय उच्च पथ, राज्य पथ और जीटी रोड पर खुले हैं। इन दुकानों को बंद किया जायेगा।

दुकानें बंद होने के बाद राज्य सरकार को 50 फीसदी से अधिक राजस्व नुकसान संभव है। विभाग को वित्तीय वर्ष 2015-16 में 913.68 करोड़ राजस्व आया था। चालू वित्तीय वर्ष 2016-17 में 1100 करोड़ के राजस्व लक्ष्य में जनवरी तक विभाग को 796 करोड़ रुपये की राजस्व प्राप्त हुआ है।

उत्पाद एवं मद्य निषेध विभाग ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन करते हुए ऐसे दुकानों को 31 मार्च तक बंद करने की चिट्ठी थमा दिया है। ऐसे दुकानों के बंद होने से युवाओं में बेरोजगारी का संकट खड़ा हो गया है। इन दुकानों में काम करनेवाले निराश, उदास होकर अपनी बोरिया बिस्तर समेट घर जाने की तैयारी कर लिये हैं।

  • खुदरा शराब का कारोबार अगस्त से करेगी सरकार

राज्य सरकार एक अगस्त 2017 से खुदरा शराब का कारोबार अपने से करने का निर्णय लिया है। इसकी भी तैयारी चल रही है। शराब का थोक कारोबार कुछ साल पहले अपने हाथ लिया था। अब थोक के बाद खुदरा व्यापार भी झारखंड राज्य बिवरेजेज कॉरपोरेशन लिमिटेड चलायेगा। 2016-17 के लाइसेंसधारियों को अप्रैल से 30 जुलाई 2017 तक अवधि विस्तार दिया है।

  • रातू रोड, एचबी रोड में बंद हो जायेगी दुकान

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद 31 मार्च के बाद रातू रोड, एचबी रोड सहित राज्य पथ और राष्ट्रीय उच्च पथ की दुकानें बंद हो जायेगी। रांची जिलें में 116 देशी-विदेशी शराब की दुकान चल रहे हैं। इसमें आधी दुकानें बंद हो जायेगी। रातू रोड, एचबी रोड, कोकर रोड, ईटकी रोड, लोवाडीह-नामकुम रोड, बूटी मोड़ सहित अन्य शामिल हैं।

  • बंद करने के लिए चिट्ठी भेज दी गयी है: सहायक आयुक्त उत्पाद

रांची के सहायक आयुक्त उत्पाद उमाशंकर सिंह ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन किया जायेगा। राष्ट्रीय उच्च पथ और राज्य पथ के किनारे खुले देशी-विदेशी शराब की दुकानों को बंद करने के लिए चिट्ठी दिया गया है। 31 मार्च को बंद कर देना है। राष्ट्रीय उच्च पथ और राज्य पथ से 500 मीटर की दूरी पर (अंदर) शराब की दुकान खुल सकती है, लेकिन इसमें समस्या आ रही है। मोहल्लो में आसानी से दुकानें नहीं मिल रही है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.