मांस व्यवसायी संघ नगर निगम कार्यालय पर जताया विरोध प्रदर्शन

मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी को सौंपा ज्ञापन

धनबाद: अवैध बूचड़खाने को बंद करने को लेकर झारखण्ड सरकार के फरमान से व्यवसाईयों में आक्रोष है। जिसको लेकर शनिवार को धनबाद जिला मुर्गा-मछली-अंडा बकरा व्यवसायी संघ के सदस्यों ने नगर निगम कार्यालय के समक्ष जमकर विरोध प्रदर्शन किया।

इसके साथ ही प्रदर्शकारियों ने नगर निगम के मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी को ज्ञापन सौपा। दिये ज्ञापन में संघ ने अपनी भुखमरी की समस्या का हवाले देते हुए कहा है कि व्यवसायियों को 24 घंटों के अंदर लाईसेंस बना देने का आश्वासन दिया गया था जो अभी तक पूरा नहीं हुआ है। बंदी फरमान के तीन चार दिन बीत जाने के बाद भी इससे संबंधित किसी प्रकार की प्रक्रिया की शुरूवात नहीं की गई है। जिससे छोटे बड़े सभी व्यवसायियों के दुकाने बंद है। संघ ने सरल और सहज प्रक्रिया के द्वारा अविलंब लाईसेंस मुहैया कराने की अपील की है।

इसके साथ ही संघ ने रोजी रोटी का हवाला देते हुए मांग की है कि जब तक लाईसेंस नहीं निगर्त की जाती है तब तक पुर्ण स्वच्छता, साफ- सुथला ढंग से रोजगार को चला ने दे। वहीं मौके पर पहुंचे निरसा विधायक अरूप चटर्जी ने कहा कि सरकार को इस पर हस्ताक्षेप नहीं करना चाहिए था। अगर छिट फूट दुकानदारों के पास लाईसेंस नहीं है तो उन्हें नगर निगम के द्वारा लाईसेंस बनाने के लिए समय देना चाहिए। प्रशासन के द्वारा अचानक सभी मुर्गा व मीट दुकानों को बंद कराने से सभी गरीब दुकानदारों को काफी छति पहुंची है।

उनके परिवार आज भुखमरी के कगार पर खड़े हो गये है। दुकानों को बंद कराने से पहले सभी को नोटीस भेजनी चाहिए थी। अचानक बंदी की घोषणा कर रघुवर सरकार झारखण्ड में हिटलर शाही नीति चला रहे है। मौके पर श्यामल मजुमदार, दिपक लाला, हरीश भालिया उपाध्याय, प्रेम मंडल, मसुर आलम, फिरोज कुरैशी, तोहिद कुरैशी, राजू कुरैशी, मुन्ना कुरैशी, पप्पू मंडल, साधु मंडल, अशोक मंडल, तपन मंडल समेद दर्जनों दुकानदार मौजूद थे।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.