पुल निर्माण कार्य में लगे मुंशी पर गोलियों से जानलेवा हमला

लेवी को लेकर अपराधियों द्वारा घटना को अंजाम दिये जाने की आशंका

. दोनों पैर में लगी मुंशी को गोली, बाईक से पहुंचे थे अपराधी, मजदूर है भयभीत
. लेवी को लेकर अपराधियों द्वारा घटना को अंजाम दिये जाने की आशंका
. दो करोड 75 लाख की लागत से कुगांव पथ पर कश्यप कंस्ट्रक्शन करा रही है पुल का निर्माण
फोटो 1 में घायल मुंशी अरविंद सिंह
2 घायल का सदर अस्पताल में इलाज के दौरान एसडीपीओ व अन्य
3 में पुल निर्माण स्थल का जायजा लेती घाघरा पुलिस
4 में प्रत्यक्षदर्शी मजदूर
घाघरा: घाघरा थाना क्षेत्र के देवाकी हाइवे से कुगांव जाने वाली पथ पर पुल निर्माण में लगे मुंशी पर शनिवार को दिन दहाड़े गोलियों की बरसात कर जानलेवा हमला किया गया। इस हमले में मुंशी डाल्टेनगंज निवासी अरविन्द सिंह को दोनों पैरों में गोली मारी गई साथ ही बंदूक के बट से उसके सर पर कई वार अपराधियों ने किये। लगभग 2 करोड़ 75 लाख की लागत से कश्यप कंस्ट्रक्शन द्वारा पुल निर्माण का कार्य उक्त स्थल पर किया जा रहा है।

घायल मुंशी अरविंद सिंह

जिसमें अरविन्द सिंह मुंशी के रूप में काम करते हैं। घटना दोपहर 12 बजे की है। मिली जानकारी के अनुसार करीब 4 महीने से पुल निर्माण का कार्य कराया जा रहा है। प्रत्येक दिन की तरह करीब 11 मजदूर पुल पर छड़ बांधने के काम में लगे थे । इसी बीच करीब 12 बजे एक बाइक पर दो अपराधी आ धमके और काम की देख रेख कर रहे मुंशी के पहले सर पर बट से प्रहार किया और बाद में दोनों पैरों में गोली मार दी जिससे वह गिर पड़ा और अपराधी बाइक से पुन: देवाकी मुख्य हाईवे की ओर निकल पड़े। इस बाबत घायल अरविन्द ने बताया कि दोनों के पास छोटा हथियार थे। वे लोग सबसे पहले अपने बाइक को निर्माण कार्यस्थल पर रोक एक छड़ बंध रहे मजदुर को एक डंडा मारा।

उसके बाद जेसीबी के ड्राइवर से मोबाइल फोन को लूटा और तेजी से मेरे पास आकर गाली गलौज करते हुए कहा कि किसके कहने पर काम शुरू किया। इसके बाद हथियार निकाल कर मेरे दोनों पैरों में हथियार सटा कर गोली मार दी। साथ ही बगल में रखे पत्थर को मेरे सिर पर वार कर सर फोड़ दिया। मुंशी ने बताया कि करीब 5 महीने से काम कार्यस्थल पर कराया जा रहा है। इस दौरान किसी ने लेवी और न ही धमकी मिली है। इधर घटना के बाद से मजदूर काफी डरे सहमे हैं और कार्य छोडकर जाने की तैयारी कर रहे थे।

अपराधियों केे जाते ही घायल मुंशी ने बाईक मंगाकर बैठकर पहुंचा इलाज के लिए

प्रत्यक्षदर्शी ट्रैक्टर ड्राइवर चियाकी पलामू निवासी मदन सिंह ने बताया कि हम ट्रैक्टर का काम कर रहे थे। इस दौरान गोली चलने की आवाज सुनक वह छिप गया। जब अपराधी भाग गये तब अरविन्द सिंह ने मुझे आवाज दिया और बाइक लाने को कहा। अरविन्द सिंह को बाईक में बैठकार इलाज के लिए घाघरा स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया। वहीं उपचार के बाद उसे गुमला रेफर किया गया। मजदूरों ने बताया अपराधियों में एक का मुंह ढंका हुआ था जबकि दूसरा हेलमेट पहने हुआ था। मुंशी अरविंद सिंह ने साहस का परिचय दिया और अपराधियों के जाते ही वे बाईक दूसरे के साथ बैठकर इलाज के लिए पहुंचे थे।

बाईक से पहुंचे थे अपराधी: मजदूर

काम कर रहे मजदूर श्यााम कुमार, सिंधु उरांव, नन्दलाल ठाकुर ने बताया कि हमलोगों के साथ करीब 11 मजदूर पुल की सेंटरिंग में छड़ बाँध रहे थे। तभी बाइक से आये दोनों अपराधी नीचे खड़े मुंशी से बात कर रहे थे तब तक गोली की आवाज आई। जिसके बाद सभी मजदूर अपनी जान बचाने के लिये इधर उधर भागे।

नक्सली घटना है या अपराधिक घटना जांच के बाद पता चलेगा: एसडीपीओ

घटना की सूचना पर एसडीपीओ भूपेंद्र प्रसाद राउत घायल से सदर हॉस्पिटल गुमला मिलने पहुंचे एवम पूछताक्ष की । साथ ही कहा कि यह नक्सली घटना है या अपराधी घटना अभी कुछ कहा नहीं जा सकता। जांच का बिषय है। अभी संक्षिप्त बयान ली गयी है विस्तृत बयान के बाद ही कुछ बताया जा सकता है।
घटना के बाद एएसपी सरोज कुमार के नेतृत्व में अपराधियों की धर पकड़ के लिए छापामारी अभियान चलाई जा रही है। ब्यान देने केे बाद एसडीपीओ भूपेंद्र प्रसाद राउत भी घटना स्थल के लिए निकल पड़े । वहीं थाना प्रभारी राजेंद्र रजक भी गुमला में ही लगे हुए थे। यहाँ बता दें कि एक पुल का सेंटरिंग में ही छड़ बंधाने का काम चल रहा था। जबकि अभी 2 पिलहरों का काम रुक गया है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.