गुमला के शहीद विजय सोरेंग का पार्थिव शरीर शनिवार को रांची एयरपोर्ट पंहुचा

शहीद के जयकारों से गूंज उठा एयरपोर्ट परिसर

रांची: जम्मू में आतंकवादियों के कायराना हमले में सीआरपीएफ जवानों की शहादत को लेकर देश के साथ झारखंड में भी उबाल देखने को मिल रहा है। इस हमले में शहीद गुमला के विजय सोरेंग का पार्थिव शरीर शनिवार को पौने चार बजे जम्मू से वाया पटना रांची लाया गया। शुरू में शहीद का पार्थिव शरीर की आने की सूचना नौ बजे की थी। इससे पहले ही सैकड़ों की संख्या में युवक-युवतियां एयरपोर्ट पर पहुंचने लगे। एक हाथ में तिरंगा और दूसरे हाथ में तख्तियां लिये युवाओं की फौज शहीद के नाम के जयकारे लगा रहे थे। दोपहर होते होते एयरपोर्ट परिसर में पांव रखने की भी जगह नहीं बची।

भीड़ को नियंत्रित करने में जवानों के पसीने छूट रहे थे। इधर, दोपहर 3.45 बजे जैसे ही आसमान में एयरफोर्स का काला हेलिकॉप्टर नजर आया। युवाओं और सुरक्षा में तैनात जवानों के जोश दोगुने हो गये। भारत माता के वीर अमर रहे, शहीद विजय सोरेंग अमर रहे, पाकिस्तान मुर्दाबाद…आदि गगणभेदी नारों के बीच जवान के पार्थिव शरीर को लाया गया। सबसे पहले शहीद की पत्नी कमरेला बा विधान सभा अध्यक्ष दिनेश उरांव और मेयर आशा लकड़ा के साथ अपने पति को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान करमेला को सुबकते देख वहां खड़े सभी आम और खास की आंखें नम हो गयी।

बीच-बीच में लगातार वीरता के जयकारे लग रहे थे। हर कोई जवान को पुुष्प अर्पित करना चाह रहा था। जवानों ने मातमी धुन बजाया तो माहौल एकदम स्तब्ध हो गया। इस दौरान हर आम और खास की आंखें नम हो गयी। हालांकि, भीड़ को देखते हुये ऐसा संभव नहीं हो पाया। इधर, राज्य के अलावा सीआरपीएफ व सेना के तमाम आला अधिकारी मौके पर उपस्थित थे। शहीद को अंतिम सलामी देने के बाद उनके पार्थिव शरीर को हेलिकॉप्टर से गुमला भेजा गया।

मेयर संभाल रही थी शहीद की पत्नी को
शहीद विजय सोेरेंग की पत्नी करमेला बा जैप की महिला बटालियन में है। रांची में प्रतिनियुक्त हैं। सुबह नौ बजे ही शहीद के पार्थिव शरीर की रांची आने की सूचना पर वह परिवार वालों के साथ काफी पहले से मौजूद थीं। कुछ देर रुकने के बाद पता चला कि पार्थिव शरीर लाने में देर होगी। रात भर जगने और रो-रो कर करमेला बा की स्थिति काफी खराब थी। वो ठीक से खड़ी भी नहीं हो पाती थी। स्थिति को देख साथ रहे मेयर आशा लकड़ा उसे लेकर पास के होटल में चली गयी। वहीं रहकर कुछ देर आराम किया। इस दौरान पूरा समय मेयर उसके साथ उपस्थित थीं।

मौके पर ये थे उपस्थित
इस मौके पर राज्यपाल, विधान सभा अध्यक्ष के अलावा विपक्षी पार्टी के भी कई नेता उपस्थित थे। मुख्यरूप से मेयर आशा लकड़ा, कांके विधायक जीतू चरण राम, पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोध कांत सहाय, जेएमएम नेता महुआ मांझी, अंतु तिर्की, कांग्रेस नेता आलोक दूबे, झारखंड पुलिस मेंस एसोसिएशन के उपाध्यक्ष राकेश पांडेय आदि उपस्थित थे।

शहादत जवानों के लिए गर्व की बात
झारखंड पुलिस मेंस एसोसिएशन के उपाध्यक्ष राकेश पांडेय ने कहा कि शहादत जवानों के लिए गर्व की बात है। हर जवान की चाहत होती है कि देश के लिए शहीद हों। लेकिन शहादत का मान रखना सरकार की जिम्मेवारी है।

 

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.