महिला क्रिकेट के लिये कार्यक्रम पर विचार कर रहा बोर्ड

तिरूवनंतपुरम: भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) पुरूष खिलाड़यिों की ही तरह अब महिला क्रिकेटरों के लिये भी फ्यूचर टूर प्रोग्राम (एफटीपी) तैयार करने पर विचार कर रहा है। बीसीसीआई महाप्रबंधक रत्नाकर शेप्ती ने इसकी जानकारी देते हुये कहा” हम पुरूषों की तरह महिला क्रिकेट में भी वनडे और ट्वंटी 20 में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एफटीपी तैयार करने पर विचार कर रहे हैं।

यह जरूरी नहीं कि हम कितना क्रिकेट खेलते हैं लेकिन यह देखना जरूरी है कि अगले दो वर्षों में हमारी लड़कियां बड़ी टीमों के साथ खेलती नज़र आएंगी।” उन्होंने कहा” महिला क्रिकेट वर्ष 2006 में ही बीसीसीआई के अंतर्गत आया है और इन 11 वर्षों में इस दिशा में काफी तरक्की देखने को मिली है जिसमें राज्य स्तर और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर काफी अच्छा प्रदर्शन देखने को मिला है।” शेप्ती ने साथ ही कहा कि बोर्ड का ध्यान फिलहाल महिलाओं के लिये टेस्ट के बजाय सीमित ओवर प्रारूप पर लगा है।

बीसीसीआई अधिकारी ने कहा” इस बात को लेकर आलोचना होती है कि महिलाएं ज्यादा क्रिकेट नहीं खेलती हैं लेकिन सच्चाई यह है कि इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया जैसी बड़ी टीमें ही टेस्ट मैच खेलने को लेकर उत्साहित नहीं है। हर देश और वैश्विक संस्था आईसीसी भी पहले महिला क्रिकेट को विकसित करने पर ध्यान देना चाहता है। इसलिये हमारा ध्यान वनडे और ट्वंटी 20 प्रारूपों पर लगा है।” शेप्ती यहां खेल पत्रकार सम्मेलन में हिस्सा लेने पहुंचे थे।

भारतीय महिला क्रिकेट ने पिछले कुछ वर्षों में काफी बढ़िया प्रदर्शन किया है और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी बड़ी टीमों को पराजित किया है। इसी वर्ष हुये आईसीसी महिला विश्वकप में मिताली राज की कप्तानी वाली भारतीय क्रिकेट टीम इंग्लैंड में फाइनल में पहुंचकर उपविजेता रही थी जिसने देश में महिला क्रिकेट को नया मुकाम दिया है।

शेप्ती ने कहा” इंग्लैंड में हुये वनडे विश्वकप में भारतीय टीम ने कमाल का खेल दिखाया और सभी स्तर पर यहां तक की मीडिया ने भी इसे लेकर काफी चर्चा की जो पहले नहीं होता था। टीवी पर इन मैचों का प्रसारण किया गया और मिताली को अब देश में हर कोई जानने लगा है। वहीं हरमनप्रीत कौर की तुलना पुरूष खिलाड़यिों के साथ की जाने लगी है।” महिला क्रिकेट की बोर्ड में अतिरिक्त जिम्मेदारी संभालने वाले बीसीसीआई अधिकारी ने कहा कि देश में क्रिकेट के मूलभूत ढांचे में व्यापक बदलाव किया गया है। बोर्ड ने आगामी सत्र के लिये अंडर-16 टूर्नामेंट को भी शुरू किया है जिससे ज्यादा प्रतिभाशाली खिलाड़ी सामने आ पा रहे हैं।

उन्होंने कहा” हमने महिला क्रिकेट को भी जूनियर स्तर पर बेहतर बनाया है और जोनल स्तर पर अंडर-16 टूर्नामेंट भी शुरू किये जाएंगे। हर राज्य संघ से 15 खिलाड़यिों को चुनना आसान नहीं है इसलिये अंडर-16 टूर्नामेंट शुरू किये गये हैं और साथ ही अंडर-23 वनडे मैच और फिर ट्वंटी 20 मैच भी होंगे।” शेप्ती ने बताया कि सीनियर महिला क्रिकेट टूर्नामेंट में हमारे वनडे मैच हो रहे हैं जिसमें वनडे और ट्वंटी 20 मैच भी इसमें खेले जाएंगे। अंडर-19 लड़कियां दो वनडे गेम्स भी खेलेंगी और महिला खिलाड़यिों के लिये बीसीसीआई के अंतर्गत यही प्रारूप फिलहाल तय किया गया है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.