सेंचुरियन वनडे : 5-1 के अंतर से सीरीज अपने नाम करना चाहेगा भारत

 सेंचुरियन: दक्षिण अफ्रीकी जमीन पर ऐतिहासिक जीत दर्ज करने वाली भारतीय टीम सीरीज के आखिरी वनडे मैच में शुक्रवार को एक और जीत अपने नाम कर छह मैचों की सीरीज का अंत 5-1 से करने के इरादे से उतरेगी।

भारत ने पहले ही 4-1 से सीरीज अपने नाम कर ली है, लेकिन वह किसी भी हालत में सीरीज को हार के साथ खत्म नहीं करना चाहेगी। दोनों टीमें सुपर स्पोर्ट पार्क मैदान पर आमने-सामने होंगी। इससे पहले इसी सीरीज में यह दोनों टीमें इस मैदान पर दूसरे वनडे में भिड़ चुकी हैं। इस मैच में भारत ने नौ विकेट से जीत दर्ज की थी।

पांचवें वनडे में भारत ने मेजबान टीम को 73 रनों से मात दी थी और इसी के साथ दक्षिण अफ्रीका में पहली वनडे सीरीज जीतने का इतिहास रचा था। इस सीरीज जीत के साथ ही भारत आईसीसी वनडे रैंकिंग में पहले स्थान पर आ गया था।

वहीं मेजबान टीम इस स्थिति में एक ही कोशिश कर सकती है वो है सीरीज का अंत जीत के साथ करने की, लेकिन वो भी जानती है कि यह उसके लिए किसी भी लिहाज से आसान नहीं है क्योंकि भारत ने इस पूरी सीरीज में जो क्रिकेट खेली है वो मेजबान पर पूरी तरह से खेल के हर विभाग में हावी होकर खेली है।

मेहमान सीरीज जीतने के बाद इस मैच को किसी भी हालत में हल्के में तो नहीं लेगा। वह इस मैच में वही क्रिकेट खेलना चाहेगा जो अभी तक खेलता आ रहा है।

पिछले मैच से पहले रोहित शर्मा के बल्ले से रन न निकलना भारत की परेशानी जरूर थी, लेकिन रोहित ने पांचवें वनडे में शतक जमाते हुए उस परेशानी को भी दूर कर दिया है। शिखर धवन और रोहित दोनों अपनी फॉर्म में हैं और अगर दोनों का बल्ला एक साथ चलता है तो दक्षिण अफ्रीका को परेशानी हो सकती है।

वहीं विराट कोहली का बल्ला भी रन उगल रहा है। भारत की परेशानी एक यह है कि शीर्ष-3 के आउट होने के बाद उसकी पारी बिखर जाती है। मध्य क्रम तथा निचला क्रम संभल नहीं पाता है और लगातार विकेट खोता रहता है। पिछले कुछ मैचों से यही देखने को मिला है।

अजिंक्य रहाणे, हार्दिक पांड्या और महेंद्र सिंह धौनी अभी तक सीरीज में कुछ खास नहीं कर पाए हैं। सीरीज जीत जाने के बाद भारतीय कप्तान कोहली इस मैच में कुछ बदलाव कर सकते हैं और बेंच पर बैठे खिलाड़ियों को अंतिम एकादश में उतार सकते हैं।

ऐसे में दिनेश कार्तिक, मनीष पांडे, केदार जाधव को आखिरी मैच में खेलने का मौका मिल सकता है।

इस सीरीज में भारत की जीत की अहम वजहों में से एक चाइनामैन कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल की जोड़ी रही है। इस जोड़ी ने अपनी फिरकी में मेजबान टीम को इस तरह से फंसाया है कि उसके बल्लेबाज अभी तक इस जोड़ी की काट नहीं ढूढ़ पाए हैं। एक बार फिर भारत के लिए यह जोड़ी जीत की चाबी साबित हो सकती है।

दक्षिण अफ्रीका इस मैच में हाशिम अमला और अब्राहम डिविलियर्स पर ज्यादा निर्भर करेगी। इन दोनों के अलावा ज्यां पॉल ड्यूमिनी और डेविड मिलर पर भी बड़ी जिम्मेदारी होगी।

गेंदबाजी का दारोमदार काफी हद तक कागिसो रबादा और पिछले मैच में चार विकेट लेने वाले लुंगी नगिड़ी पर होगा।

टीमें :

भारत : विराट कोहली (कप्तान), शिखर धवन, रोहित शर्मा, अजिंक्य रहाणे, श्रेयस अय्यर, मनीष पांडे, दिनेश कार्तिक, केदार जाधव, महेंद्र सिंह धौनी, हार्दिक पंड्या, युजवेंद्र चहल, कुलदीप यादव, अक्षर पटेल, भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी, शार्दूल ठाकुर।

दक्षिण अफ्रीका : एडिन मार्करम (कप्तान), हाशिम अमला, अब्राहम डिविलियर्स, क्विंटन डी कॉक (विकेटकीपर), ज्यां पॉल ड्यूमिनी, फरहान बेहरदीन, इमरान ताहिर, हेइनरिक क्लासेन, डेविड मिलर, मोर्ने मोर्कल, क्रिस मौरिस, लुंगी नगिडी, आंदिले फेहुलकवायो, कागिसो रबादा, तबरेज शम्सी, खायो जोंडो।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.