चैम्पियंस लीग : पहली बार फाइनल में पहुंचा टॉटेनहम हॉट्सपर

एम्सटर्डम: यूरोपीय चैम्पियंस लीग में रोमांचक मैचों का सिलसिला बुधवार को जारी रहा। टूर्नामेंट के सेमीफाइनल के पहले लेग में 1-0 से हारने और दूसरे लेग में 2-0 से पिछड़ने के बावजूद इंग्लिश क्लब टॉटेनहम हॉट्सपर ने दमदार वापसी की और एजाक्स को मात देकर पहली बार फाइनल में जगह बनाई।
ब्राजील के फारवर्ड लुकास मोउरा ने यहां एम्सटर्डम एरेना में खेले गए मैच में बेहतरीन हैट्रिक लगाई जिसके दम पर टॉटेनहम ने हॉलैंड के क्लब को 3-2 से हराया। पहले लेग में एजाक्स ने टॉटेनहम को उसके घर में 1-0 से हराया था। इस तरह कुल स्कोर 3-3 रहा और टॉटेनहम की टीम अवे गोल के कारण फाइनल में पहुंचने में सफल रही।
‘यूईएफए डॉट कॉम’ के अनुसार, टॉटेनहम पहली बार इस टूर्नामेंट के फाइनल में खेलेगी। इंग्लैंड के कुल पांच क्लब अबतक इस प्रतिष्ठित प्रतियोगिता के फाइनल में पहुंचे हैं और यह टूर्नामेंट के इतिहास में दूसरा मौका है जब जो दो इंग्लिश टीमों के बीच फाइनल मुकाबला होगा।फाइनल में टॉटेनहम का सामना लिवरपूल से होगा, जिसने स्पेनिश दिग्गज एफसी बार्सिलोना को 4-3 के कुल अंतर से हराते हुए फाइनल में जगह बनाई है। पहले चरण का सेमीफाइनल में 0-3 से हारने के बाद लीवरपूल ने बार्सिलोना को दूसरे चरण में 4-0 से हराते हुए सनसनीखेज परिणाम दिया था। आखरी बार 2008 में दो इंग्लिश क्लब (मैनचेस्टर युनाइटेड और चेल्सी) चैम्पियंस लीग के फाइनल में भिड़ी थी।

एजाक्स की शुरुआत हालांकि, मुकाबले में बेहतरीन रही। मैच के पांचवें मिनट में ही प्रतिभाशाली डिफेंडर मैथिज्स डी लिग्ट ने 18 गज के बॉक्स के अंदर से हेडर के जरिए गोल दागा और मेजबान टीम को बढ़त दिला दी। पहला हाफ समाप्त होने से पहले एजाक्स अपनी बढ़त को दोगुना करने में सफल रही। 35वें मिनट में दूसान टैडिच ने बॉक्स में हकीम जियेक को पास दिया जिन्होंने गेंद को गोल में डालकर अपनी टीम की बढ़त को दोगुना कर दिया। इस गोल के बाद ऐसा प्रतीत हुआ कि टॉटेनहम ने मुकाबला गंवा दिया है, लेकिन दूसरे हाफ में दर्शकों को अलग ही रोमांचक देखने को मिला।

दूसरे हाफ की टॉटेनहम ने दमदार शुरुआत की और 55 मिनट में मोउरा ने गोल करते हुए अंतर को कुछ कम किया। मोउरा यहीं नहीं रुके और चार मिनट बाद उन्हें एक बार फिर गेंद को गोल में डालने में सफलता मिली। इसके बाद, इंग्लिश क्लब ने अधिक समय तक गेंद को नियंत्रण में रखा। हालांकि, उसे मेजबान टीम के डिफेंस को भेदने में बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ा। इंजुरी टाइम (96वें मिनट) में मोउरा की मेहनत रंग लाई और उन्होंने बॉक्स के अंदर से गोल करते हुए अपनी टीम को फाइनल में पहुंचा दिया।

 

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.