राकांपा नेता उदयनराजे भोंसले का इस्तीफा, भाजपा में शामिल

नई दिल्ली: महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव से ठीक पहले राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) को एक बड़ा झटका देते हुए पार्टी नेता उदयनराजे भोंसले ने शनिवार को लोकसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया और वह भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हो गए। उन्होंने कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व से प्रेरित हैं। इससे पहले शनिवार को, भोंसले ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला से मुलाकात की और निचले सदन से अपना इस्तीफा उन्हें सौंप दिया। इसके बाद वह भाजपा अध्यक्ष और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के निवास पर पहुंचे, जहां वह औपचारिक रूप से कार्यवाहक अध्यक्ष जे.पी. नड्डा, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और कई अन्य वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में भाजपा में शामिल हो गए।

भाजपा में शामिल होने के बाद छत्रपति शिवाजी महाराज के वंशज भोंसले ने कहा, ”मैं मोदी, शाह और भाजपा के कार्यों और नेतृत्व से प्रेरित हूं। मुझे यह देखकर खुशी हुई कि भाजपा देश को मजबूत बनाने के लिए शिवाजी महाराज के पथ पर चल रही है।” भोंसले ने जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को रद्द करने के लिए भी मोदी सरकार की सराहना की और कहा, ”जिस बारे में किसी ने सोचा भी नहीं था, उन्होंने देश को मजबूत करने के लिए बहुत ही परिपक्व तरीके से संवेदनशील मामले को संभालकर इसे वास्तविक बना दिया।” उन्होंने कहा कि पार्टी और उसकी विचारधाराओं में नेतृत्व के कारण देश के लोग भाजपा में शामिल हो रहे हैं।

भोसले का इस्तीफा 20 साल पुरानी पार्टी राकांपा के लिए जबरदस्त झटका है, जिसके कुछ पूर्व मंत्रियों सहित कई प्रमुख नेताओं ने राज्य विधानसभा चुनाव से पहले पार्टी से इस्तीफा देकर भाजपा और शिवसेना का दामन थाम लिया है। महाराष्ट्र विधानसभा में सतारा सीट से राकांपा का प्रतिनिधित्व करने वाले उनके चचेरे भाई शिवेंद्र भोंसले भी इस साल 31 अगस्त को भाजपा में शामिल हो गए थे। शाह ने भोसले का स्वागत करते हुए कहा, ”भाजपा और जनसंघ ने हमेशा शिवाजी महाराज की विचारधारा का अनुसरण किया है और यह बहुत अच्छी बात है कि उनके परिवार का एक सदस्य पार्टी में शामिल हो गया।” लोकसभा चुनाव के ठीक चार महीने बाद राकांपा सांसद के रूप में इस्तीफा देने के लिए भोसले की प्रशंसा करते हुए शाह ने कहा कि उन्होंने नैतिक आधार पर भाजपा में शामिल होने के लिए चार महीने के भीतर ही एक सांसद के पद से इस्तीफा दे दिया, जो गर्व की बात है।

केंद्रीय गृहमंत्री ने जोर देकर कहा कि भाजपा केंद्र में मोदी के नेतृत्व में और राज्य में फडणवीस के नेतृत्व में इस साल के अंत में होने वाले महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में ज्यादा सीटें जीतकर अपने प्रदर्शन में सुधार करेगी। 53 वर्षीय भोंसले सतारा से तीन बार 2009, 2014 और 2019 में सांसद चुने जा चुके हैं। इससे पहले, वह एक विधायक थे और 1995-1999 के बीच शिवसेना-भाजपा सरकार में एक साल के लिए राजस्व मंत्री के रूप में उन्होंने कार्य किया।हालांकि, 2009 के लोकसभा चुनाव से कुछ समय पहले, उन्होंने राकांपा में शामिल होने के लिए राज्य के नेताओं के साथ कुछ मतभेदों के बाद भाजपा छोड़ दी थी और राकांपा प्रमुख शरद पवार के सबसे भरोसेमंद सहयोगियों में से एक बन गए। जब वह मंत्री थे, तब 1999 में राकांपा कार्यकर्ता शरद लेवे की हत्या के मामले में उन्हें अभियुक्त बनाया गया था, लेकिन बाद में अदालत ने उन्हें बरी कर दिया था।

 

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.