शिवसेना MP रविंद्र गायकवाड़ के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने दर्ज की FIR

एयर इंडिया अफसर से मारपीट के आरोप में शिवसेना सांसद के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने दर्ज की रिपोर्ट

नयी दिल्ली: एयर इंडिया के अफसर के साथ चप्पल से पीटने और कमीज फाड़ने के आरोप में शिवसेना सांसद रविंद्र गायकवाड़ के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने FIR दर्ज कर ली है।

सांसद के खिलाफ आईपीसी की धारा 355 के तहत गंभीर उत्तेजना के बिना किसी व्यक्ति का अनादर करने के लिए हमला करने व धारा 308 के तहत गैर इरादतन हत्या करने की धारा में FIR दर्ज की गई। क्राइम ब्रांच मामले की जांच कर रही है, उसकी FIR पर ही पुलिस आगे की कार्रवाई करेगी। उधर, सांसद ने भी मामले में एयर इंडिया अधिकारी पर दु‌र्व्यवहार करने व धक्का-मुक्की करने का आरोप लगाते हुए शिकायत दी है।

विशेष पुलिस आयुक्त ऑपरेशन व मुख्य प्रवक्ता दीपेंद्र पाठक ने बताया कि बृहस्पतिवार सुबह दस बजे के करीब हुई घटना के संबंध में एयर इंडिया के ड्यूटी मैनेजर 60 वर्षीय सुकुमार ने शाम पौने छह बजे दिल्ली पुलिस को शिकायत दी थी। पुलिस ने कानूनी राय मांगी थी। सांसद के खिलाफ आईपीसी की धारा 308 एवं 355 की धारा के तहत FIR दर्ज करने की कानूनी राय दी गई थी। सांसद के खिलाफ उक्त धाराओं में FIR दर्ज कर ली गई है। प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए जांच क्राइम ब्रांच को सौंपी गई है।

रविंद्र गायकवाड़ की गिरफ्तारी को लेकर पत्रकारों द्वारा पूछे गए सवाल पर मुख्य प्रवक्ता दीपेंद्र पाठक ने कहा कि दिल्ली पुलिस ने मामले में FIR दर्ज की है और जांच को क्राइम ब्रांच को सौंपा गया है। क्राइम ब्रांच की डिटेल जांच में जो भी आएगा, उसके आधार पर आगे की कानूनी की कार्रवाई की जाएगी। पुलिस सूत्रों के अनुसार मामले में क्राइम ब्रांच की टीम घटना के दौरान एयर इंडिया में मौजूद कर्मचारियों के बयान दर्ज करेगी और फिर पूछताछ के लिए आरोपी सांसद रविंद्र गायकवाड़ को बुलाया जाएगा। अगर जांच में पुलिस को सांसद के खिलाफ पुख्ता साक्ष्य मिले तो उन्हें गिरफ्तार भी किया जा सकता है।

  • क्या था मामला

गुरुवार सुबह आइजीआइ एयरपोर्ट पर लैंडिंग के बाद ओपन बिजनेस क्लास का टिकट होने के बावजूद भी इॅकोनामी क्लास में बैठाए जाने से नाराज सासद ने एयर इंडिया के डयूटी मैनेजर सुकुमार पर चप्पल से वार करना शुरू कर दिया और एक के बाद 25 बार मारा था।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.