प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया ‘फिट इंडिया’ मूवमेंट का शुभारंभ

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को देश से स्वास्थ्य लक्ष्यों को अधिक गंभीरता से लेने का आग्रह किया और ‘फिटर इंडिया’ के लिए उनके जुनून का आ”न किया और लोगों से इस बात का भी आग्रह किया कि सफलता के लिए लिफ्ट का सहारा न लें, क्योंकि उन्होंने फिट इंडिया मूवमेंट की शुरुआत की है।हालिया दिनों में टीम इंडिया द्वारा कैरिबिया में वेस्ट इंडीज के खिलाफ ऐतिहासिक जीत दर्ज करने और निपुण शटलर पी.वी. सिंधु द्वारा विश्व चैंपियनशिप में गोल्ड जीतने वाली पहली भारतीय बनने और इसके अलावा पैरा-बैडमिंटन विश्व चैंपियनशिप में तीन गोल्ड के बाद अब मोदी की चाह पूरे देश को ‘फिट नेशन’ बनाने की है। यहां इंदिरा गांधी स्टेडियम परिसर में देशव्यापी अभियान की शुरुआत करते हुए स्वास्थ्य के प्रति उत्साही मोदी ने लोगों को अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में स्वास्थ्य गतिविधि और खेल को शामिल करने के लिए प्रोत्साहित किया।

इस दिन मेजर ध्यानचंद की 114वीं जयंती भी मनाई गई, जिसे भारत में राष्ट्रीय खेल दिवस के रूप में मनाया जाता है। किस्से, चुटकुले और रोजमर्रा की बातों के बीच मोदी ने फिटनेस के महत्व पर जोर दिया। यहां तक कि उन्होंने अपनी हालिया ‘मन की बात’ में लोगों को संबोधित करते हुए उन्हें ‘फिट इंडिया मूवमेंट’ में हिस्सा लेने के लिए कहा। चीन, अमेरिका, जर्मनी और ब्रिटेन से भारत की तुलना करते हुए मोदी ने कहा कि फिटनेस के मामले में यहां के लोग पिछड़े हुए हैं। उन्होंने चुटीले अंदाज में यह भी कहा कि किस तरह से भारतीय डिनर टेबल पर बैठे हुए डायट की बात करते हैं।उन्होंने जीवन-शैली से उपजी समस्या की ओर ध्यान दिलाते हुए कहा कि इससे फिटनेस में कमी आती है। उन्होंने कहा, ”पहले लोग रोज 8-10 किलोमीटर पैदल चला करते थे। आजकल हम ऐप्स के माध्यम से इस बात पर नजर रखते हैं कि हम कितने कदम चले हैं।” प्रधानमंत्री ने लोगों से फिटनेस के प्रति ध्यान केंद्रित करने और अनुशासित बने रहने आग्रह किया।

उन्होंने स्वामी विवेकानंद का हवाला देते हुए ड्रग्स के उपयोग के खिलाफ भी लोगों को चेतावनी दी। लोगों ने मोदी की इस बात पर तालियां बजाई, जब उन्होंने कहा, ”फिटनेस में एक पैसे का निवेश नहीं लगता है और सौ प्रतिशत रिटर्न मिलता है।” समारोह में खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने कहा कि प्रधानमंत्री का सपना सच हो रहा है, क्योंकि वह हमेशा से एक फिट और हेल्दी इंडिया देखना चाहते थे।

 

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.