पाकिस्तान हिंसा, आतंक और विध्वंस की नीति पर कायम: मोदी

नयी दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 1971 के बंगलादेश के मुक्ति संग्राम के दौरान मानवाधिकारों के उल्लंघन के लिए पाकिस्तान की कड़ी आलोचना करते हुए आज कहा कि भारत का यह पश्चिमी पड़ोसी अभी भी हिंसा, आतंक और विध्वंस की नीति पर चल रहा है।

पीएम मोदी ने मुक्ति संग्राम के दौरान शहीद हुए सात भारतीय सैनिकों के परिजनों को बंगलादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना द्वारा सम्मानित किए जाने के यहां आयोजित एक समारोह में कहा, ‘ दक्षिण एशिया में अभी भी एक दृष्टिकोण है जहां आतंक को सहेजने, प्रेरित और प्रोत्साहित करने का काम होता है। यह एक बड़ी चुनौती है।’ पीएम हसीना तीन दिन की भारत यात्रा पर हैं।

उन्होंने कहा कि बंगलादेश की स्थापना से एक उम्मीद की एक किरण जगी थी। इतिहास में 1971 दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं के लिए याद किया जाता है जब मानवाधिकारों का पूरी तरह से उल्लंघन किया गया था। उन्होंने पाकिस्तान का नाम लिए बगैर कहा कि भारत और बंगलादेश के बीच संबंधों के दो प्रमुख आधार शांति और विकास है जबकि दूसरी ओर विकास से ज्यादा विध्वंस पर भरोसा किया जाता है तथा पूरी ताकत आतंकवाद फैलाने में लगाई जाती है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि पाकिस्तान का एक दृष्टिकोण है लेकिन यह मानवता पर आधारित नहीं है। उन्होंने कहा, ” ऐसी सोच है जिसका वैल्यू सिस्टम मानवता पर नहीं (बल्कि) हिंसा,अतिवाद तथा आतंक पर आधारित है। अब समय ऐसी ताकतों के विरूद्ध लड़ने का है जो विकास के बदलने विनाश में विश्वास करते हैं।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.