मोदी कल श्रीलंका की यात्रा पर जायेंगे

नयी दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 14वें अंतर्राष्ट्रीय वैशाख दिवस सम्मेलन में भाग लेने के लिये कल श्रीलंका की दो दिन की यात्रा पर श्रीलंका जायेंगे।विदेश मंत्रालय में संयुक्त सचिव (हिन्द महासागरीय क्षेत्र) संजय पांडा ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाल सिरीसेना के निमंत्रण पर श्री मोदी कल श्रीलंका जायेंगे। वह इस यात्रा के दौरान डिकोया में भारत की 50 करोड़ रुपये की सहायता से निर्मित डेढ़ सौ बिस्तर वाले एक मल्टी स्पेशियलिटी अस्पताल का उद्घाटन करेंगे। श्री मोदी वहां तमिल मूल के चायबगान कर्मियों से मुलाकात करेंगे। श्री मोदी कैण्डी भी जायेंगे और वहां दलदा मालीगाव या ‘पवित्र दंत अवशेष का मंदिर’ के दर्शन करेंगे।

ओडिशा में पुरी के सुप्रसिद्ध बालू शिल्पकार सुदर्शन पटनायक श्रीलंका पहुंच चुके हैं और वह श्रीलंका के संसद भवन परिसर में बुद्ध प्रतिमा उकेरेंगे।श्री पांडा के अनुसार प्रधानमंत्री कल शाम कोलंबो पहुंचेंगे और करीब सात बजे गंगा रमैया मंदिर में दीप प्रज्जवलन कार्यक्रम के बाद 14वें अंतर्राष्ट्रीय वैशाख दिवस सम्मेलन में भाग लेंगे। श्रीलंका पहली बार इस सम्मेलन की मेज़बानी कर रहा है। इस सम्मेलन में अनेक बौद्ध धर्मावलंबी देश भाग लेंगे। श्री मोदी अगले दिन सुबह डिकोया में अस्पताल का उद्घाटन करेंगे और दोपहर बाद कैण्डी जायेंगे। परसों रात ही वह स्वदेश लौट आयेंगे। श्री मोदी पिछली बार मार्च 2015 में श्रीलंका की द्विपक्षीय यात्रा पर गये थे और उस दौरान उन्होंने जाफना, तलाईमन्नार और अनुराधापुर का भ्रमण किया था।

एक सवाल के जवाब में उन्होंने बताया कि इस यात्रा में कोई औपचारिक द्विपक्षीय बैठक की योजना नहीं है। फिर भी शीर्ष नेताओं के साथ द्विपक्षीय संबंधों पर चर्चा होने की संभावना है। मछुआरा मसले पर पूछे जाने पर श्री पांडा ने कहा कि भारत इस मुद्दे का स्थायी समाधान निकालने का प्रयास कर रहा है। इसी मकसद से एक संयुक्त कार्य समूह गठित किया गया है। भारतीय मछुआरों को गहरे समुद्र से मछली पकड़ने के बारे में प्रशिक्षित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इस समस्या का रातोंरात समाधान नहीं किया जा सकता है।

श्रीलंका के त्रिंकोमाली बंदरगाह के विकास को लेकर भारत एवं श्रीलंका के बीच बातचीत के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि अभी इस बारे में अध्ययन पूरा नहीं हुआ है। उसके बाद ही बातचीत आरंभ होगी। दोनों देशों के बीच आर्थिक एवं तकनीकी सहयोग समझौते के बारे में उन्होंने बताया कि समझौते पर चार दौर की बातचीत हो चुकी है और बहुत अच्छे माहौल में बातचीत हो रही है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.