भारत और मलेशिया की कंपनियों ने 31 समझौतों पर हस्ताक्षर

भारत और मलेशिया की कंपनियों ने निर्माण, फार्मा और शिक्षा क्षेत्र किए 36 अरब डॉलर के सौदे

नयी दिल्ली: भारत और मलेशिया की कंपनियों ने आज 36 अरब डॉलर के 31 समझौतों पर हस्ताक्षर किए जिनमें निर्माण, फार्मा और शिक्षा क्षेत्र शामिल है।

मलेशिया के प्रधानमंत्री मोहम्मद नाजिब तुन अब्दुल रजाक और केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री निर्मला सीतारमण की मौजूदगी में यहां ‘भारत- मलेशिया बिजनेस फोरम’ की बैठक के दौरान समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए। इन समझौतों के तहत दोनों देशों की कंपनियों एक दूसरे के देशों में निवेश करेंगी।
छह दिन की भारत यात्रा पर आए श्री नाजिब के एक उद्योग प्रतिनिधिमंडल भी आया है। मलेशिया में निवेश करने वाला भारत नौवां बड़ा देश है।

इस अवसर पर मलेशियाई प्रधानमंत्री ने उद्योगपतियों से कहा कि उन्हें क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक भागीदारी समझौते को पूरा करने के लिए अपनी अपनी सरकारों पर दबाव डालना चाहिए जिससे इस पर इस वर्ष के अंत या अगले वर्ष के शुरू में हस्ताक्षर हो सके।

इससे पूर्व श्रीमती सीतारमण ने कहा कि मलेशिया और भारत की आर्थिक भागीदारी दोनों देशों के लिए लाभदायक रहेगी जिससे दोनों पक्षों के संबंधों को मजबूती मिलेगी। उन्होंने कहा कि मलेशिया को बुनियादी ढांचे के क्षेत्र में महारत हासिल है और भारत ने इस क्षेत्र में 1000 अरब डॉलर के निवेश की योजना बनाई है। इस भागीदारी से दोनों देशों को लाभ होगा और दोनों पक्षों के संबंधों को मजबूती मिलेगी।

उन्होंने कहा कि क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक भागीदारी समझौते की बातचीत पूरी हो गयी है और इस पर जल्दी हस्ताक्षर होने की संभावना है। इससे भारत के संबंध दक्षिण पूर्वी एशियाई देशों के साथ मजबूत होंगे और कई स्तर पर भागीदारी बढ़ेगी।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.