तीन साल में वायु सेना के 37 विमान और हेलिकॉप्टर दुर्धटनाग्रस्त

नयी दिल्ली : लड़ाकू विमानों की कमी से जूझ रही भारतीय वायु सेना के पिछले तीन वर्षों में 37 लड़ाकू विमान, हेलिकॉप्टर और रक्षा विमान दुर्घटनाग्रस्त हुए जिनमें 9 पायलटों की जान गयी! रक्षा राज्य मंत्री डा सुभाष भामरे ने आज राज्यसभा में लिखित जवाब में बताया कि वर्ष 2014 -15 से 6 जुलाई 2017 तक वायु सेना के 37 विमान , हेलिकॉप्टर और रक्षा विमान दुर्घटनाग्रस्त हुए जिनमें 9 पायलटों की जान गयी। इन विमानों में लगभग 20 लड़ाकू विमान हैं जिनमें 10 मिग , 5 जगुआर और 4 सुखोई विमान शामिल हैं।

इनके अलावा वायु सेना का एक ए एन -32 विमान भी गत जुलाई में लापता हो गया। इस दुर्घटना में दो पायलटों सहित 27 लोग मारे गये थे। उन्होंने कहा कि इन दुर्घटनाओं के कारणों का पता लगाने के लिए कोर्ट ऑफ इन्कवायरी का गठन कर हर पहलू से जांच की जाती है। अधिकतर मामलों में दुर्घटना का मुख्य कारण मानवीय चूक और तकनीकी खराबी पाया गया है। उन्होंने कहा कि वायु सेना के मुख्य लड़ाकू विमानों मिग -21 और मिग -27 को समकालीन और प्रासंगिक बनाये रखने के लिए इनका निरंतर उन्नयन किया जा रहा है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.