राजस्थान मंत्रिमंडल में विभागों का बंटवारा, वित्त, गृह विभाग गहलोत के पास

जयपुर: राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह ने गुरुवार तड़के मंत्रिमंडल के सदस्यों को विभाग आवंटित कर दिए।राज्य में तीन दिन पहले ही 23 मंत्रियों ने पद की शपथ ली थी। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गृह और वित्त सहित मुख्य विभाग अपने पास रखे हैं।बयान के मुताबिक, मंत्रालयों का आवंटन रात दो बजे हुआ।बयान के मुताबिक, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गृह, वित्त सहित मुख्य विभाग अपने पास रखे हैं जबकि उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट को लोक निर्माण विभाग और ग्रामीण विकास विभाग मिले हैं।सामान्य प्रशासन, सूचना प्रौद्योगिकी एवं दूरसंचार विभाग भी गहलोत के पास हैं जबकि विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी और सांख्यिकीय विभाग पायलट को दिए गए हैं।

बी.डी.काला को बिजली, जन स्वास्थ्य इंडीनियरिंग, संस्कृति एवं पुरातत्व विभाग दिए गए हैं जबकि प्रताप सिंह को परिवहन एवं सैनिक कल्याण विभाग मिले हैं।शांति धारीवाल को शहरी विकास, आवास एवं कानून विभाग मिले हैं।रघु शर्मा को चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, आयुर्वेद, ईएसआई, सूचना एवं जनसंपर्क विभाग मिले हैं।प्रसादी लाल को इंडस्ट्रीज एंड स्टेट वेंचर्स विभाग मिला है जबकि मास्टर भंवरलाल को सामाजिक न्याय एवं सशक्तिकरण और आपदा प्रबंधन विभाग मिला है।लालचंद कटारिया को कृषि, पशुपालन एवं मत्स्य विभाग मिला है जबिक प्रमोद जैन भाया को खनन एवं गाय मंत्रालय मिला है।

विश्वेंद्र सिंह को पर्यटन मंत्रालय मिला है जबकि हरिश चौधरी को राजस्व एवं सिंचाई मंत्रालय मिला है।रमेश चंद मीणा को खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग मिला है। उदयलाल अंजना को सहकारी एवं इंदिरा गांधी नहर परियोजना विभाग जबिक सालेह मोहम्मद को अल्पसंख्यक एवं वक्फ विभाग मिला है।गोविंद सिंह दोतारासा को शिक्षा, ममता भूपेश को महिला एवं बाल विकास मंत्रालय और अर्जुन सिंह को भमनिया जनजातीय क्षेत्रीय विकास विभाग मिला है।भंवर सिंह भाटी को उच्च शिक्षा विभाग (स्वतंत्र प्रभार), सुखीराम विश्नोई को वन विभाग (स्वतंत्र विभाग), पर्यावरण, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग एवं उपभोक्ता मामलों का मंत्रालय मिला है।

अशोक चंदना को युवा एवं खेल विभाग, टीकाराम जूली को श्रम विभाग (स्वतंत्र विभाग), भंजनलाल जाटव को गृह रक्षा और सिविल डिफेंस विभाग (स्वतंत्र विभाग) और मुद्रण एवं स्टेशनरी (स्वतंत्र प्रभार) विभाग मिला है।राजेंद्र सिंह यादव को प्लानिंग (मैनपावर), (स्वतंत्र विभाग), स्टेट मोटर गैराज विभाग (स्वतंत्र विभाग), भाषा विभाग (स्वतंत्र विभाग), सामाजिक न्याय एवं सशक्तिकरण और आपदा प्रबंधन और सहायक विभाग मिला है।इससे पहले विभागों के बंटवारे को लेकर कांग्रेस सदस्यों के बीच मतभेद के चलते मंत्रालयों के आवंटन संबंधी फाइलों को दिल्ली से जयपुर और जयपुर से दिल्ली भेजा गया।बुधवार सुबह सचिन पायलट ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की जबकि बाद में गहलोत मंत्रालयों के आवंटन संबंधी फाइलों सहित दिल्ली गए।दिल्ली में आठ घंटे की लंबी बैठक के बाद गुरुवार को रात लगभग दो बजे मंत्रालयों के आवंटन की प्रक्रिया पूरी हुई।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.