पीएनबी घोटाला : देशभर में छापेमारी, नीरव गया विदेश

दिल्ली: पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) से जुड़े सवा 11 हजार करोड़ का घोटाला सामने आने के बाद गुरुवार को बैंक के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुनील मेहता ने कहा कि बैंक के पास पूरी स्थिति से उबरने की क्षमता और योग्यता है| मामले में किसी को बक्शा नहीं जाएगा। हालांकि नीरव मोदी 1 जनवरी देश छोड़कर चला गया। उधर, गुरुवार को प्रवर्तन निदेशालय ने देशभर में हीरा कारोबारी नीरव मोदी के घर और दफ्तरों पर छापेमारी की। मुंबई, सूरत और दिल्ली में की गई छापेमारी में कई दस्तावेज जब्त किए गए हैं। सीबीआई को मामले की जानकारी 29 जनवरी को मिल गई थी|

उसने 31 जनवरी केस दर्ज कर लुक आउट नोटिस जारी किया था। दिल्ली में आनन-फानन में आयोजित प्रेसवार्ता में सुनील मेहता ने कहा कि किसी को बक्शा नहीं जाएगा। उन्होंने बताया कि मामला केवल बैंक की एक ब्रांच से ही जुड़ा हुआ है। इस तहर के फर्जीवाड़े की जानकारी मिलने के बाद उन्होंने अपनी अन्य ब्रांच में भी जांच कराई जहां ऐसा कोई लेन-देन नहीं हुआ है। उल्लेखनीय है कि पंजाब नेशनल बैंक की दक्षिण मुंबई स्थित ब्राडी हाउस कोर्पोरेट ब्रांच में अरबपति हीरा कारोबारी नीरव मोदी का खाता है। वल्र्­डवाइड इंटरबैंक फाइनेंशियल टेलीकम्­युनिकेशन (स्विफ्ट) के जरिए लाखों डॉलर की रकम अंतरराष्­ट्रीय स्­तर पर भेजी जाती है। बैंक के कर्मचारियों ने फर्जीवाड़ा कर इसके माध्यम से नीरव मोदी समूह की कुछ कंपनियों की तरफ से लेटर ऑफ अंडरटेकिंग (एलओयू) जारी किया है।

इस एलओयू का मतलब होता है कि बैंक एक अवधि में नीरव की ओर से देनदारी चुकाएगा। उन्होंने बताया कि इस पूरे मामले की शुरुआत 2011 में हुई थी। जैसे ही इस घोटाले की उन्हें जानकारी मिली उन्होंने जांच एजेंसियों को इस बारे में अवगत कराया। 3 जनवरी को उन्हें पता चला कि उनके बैंक के 2 अधिकारी इस तरह का लेन-देन करा रहे हैं। उन्हें 25 जनवरी को मामले में समझौता करने के लिए मेल भी प्राप्त हुआ। बैंक ने मेल के जबाव में मामले की पूरी जानकारी विस्तार से मांगी। उन्होंने बताया कि वित्त मंत्रालय दैनिक आधार पर मामले पर नजर रखे हुए है। मामला बेहद संवेदनशील है|

दोषियों की तलाश की जा रही है। उन्होंने कहा कि हम अपने स्टॉफ के खिलाफ कार्रवाई करेंगे और किसी भी जिम्मेदारी से पीछे नहीं हटेंगे।घोटाले की राशि की बरामदगी से जुड़े प्रश्न के उत्तर में श्री मेहता ने कहा कि प्रवर्तन निदेशालय जब्ती की कार्रवाई कर रहा है| उन्हें लगता है कि राशि का अधिकतम हिस्सा वसूल हो जाएगा। उन्होंने यह भी बताया कि अभी कोई पैसा नहीं दिया गया है| केवल बैंक पर एक देनदारी है। जांच होने के बाद अगर देनदारी बनी तो उसे चुकाया जाएगा।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.