कर्नाटक : विधानसभा अध्यक्ष ने विधायकों के इस्तीफे को दोषपूर्ण बताया

बैंगलुरू: कर्नाटक विधानसभा अध्यक्ष के.आर. रमेश कुमार ने मंगलवार को कांग्रेस और जनता दल-सेकुलर (जद-एस) के सभी 13 बागी विधायकों के इस्तीफे को स्वीकार करने से इनकार कर दिया, क्योंकि आठ इस्तीफे निर्धारित प्रारूप में नहीं थे और पांच पर स्पष्टीकरण की जरूरत थी, ताकि यह सुनिि>त हो सके कि क्या वे दलबदल विरोधी कानून के अनुसार हैं भी या नहीं। कुमार ने कहा, ”मैंने 12, 15 और 21 जुलाई को दोनों दलों के सभी विधायकों को मुझसे मिलने के लिए बुलाया है, क्योंकि उनके इस्तीफे दोषपूर्ण हैं और स्पष्टीकरण कानून विरोधी धारा 202 के तहत कानून के अनुसार नहीं हैं,” इस्तीफा देने वाले 13 विधायकों में से 10 कांग्रेस और तीन जद-एस के हैं। जांच करने पर केवल पांच इस्तीफे उचित प्रारूप में पाए गए।

कुमार ने कहा, ”दोनों दलों के विधायकों के बाकी आठ इस्तीफे सही प्रारूप में नहीं हैं। मैंने उन्हें 21 जुलाई तक का समय दिया है कि वे उन्हें फिर से जमा करें और अपने संबंधित विधानसभा क्षेत्रों को छोड़ने के कारण बताएं।” प्रारूप के अनुसार, इस्तीफे देने वाले विधायकों में आनंद सिंह, रामलिंगा रेड्डी और प्रतापगौड़ा पाटिल कांग्रेस के हैं, जबकि एन. नारायण गौड़ा और के. गोपालैया जद-एस के हैं। कुमार ने कहा, ”मैंने सिंह, पाटिल और गौड़ा से 12 जुलाई को मिलने के लिए कहा है, ताकि वे इस्तीफा दे सकें और यह सुनिि>त करा सकें कि वे कानून के अनुसार स्वैच्छिक और वास्तविक थे।” इसके अलावा सभापति ने रेड्डी और गोपालैया को उनके इस्तीफे के कारणों को बताने के लिए 15 जुलाई को बुलाया।

जिन आठ विधायकों के इस्तीफे गलत हैं और उन्हें सही प्रारूप में फिर से शुरू करने के लिए कहा गया है, उनमें बी.सी. पाटिल, एस.टी. सोमशेखर, बृती बसवराज, रमेश जारखोली, महेश कुमथल्ली, शिवराम हेब्बर, मुनिरत्ना (सभी कांग्रेस) और जद-एस से ए.एच. विश्वनाथ शामिल हैं। निलंबित कांग्रेस विधायक आर.रोशन बेग के इस्तीफे पर अध्यक्ष ने कहा कि उनके पत्र को उनके कार्यालय द्वारा सत्यापित किया जा रहा था, क्योंकि बेग ने मंगलवार दोपहर को इसे प्रस्तुत किया।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.