आप प्रत्याशी के बेटे ने कहा, टिकट के लिए दिए 6 करोड़, पिता का इनकार

नई दिल्ली: दिल्ली में मतदान से ठीक एक दिन पहले, आम आदमी पार्टी (आप) के एक प्रत्याशी के बेटे ने एक सनसनीखेज आरोप लगाते हुए दावा किया कि उसके पिता ने टिकट पाने के लिए पार्टी प्रमुख और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को 6 करोड़ रुपये दिए। उधर पिता ने इस आरोप को खारिज किया है और कहा कि लंबे समय से उनका बेटा उनके संपर्क में नहीं है। पि>मी दिल्ली के उम्मीदवार बलबीर सिंह जाखड़ के बेटे उदय ने अपने पिता पर टिकट के लिए छह करोड़ रुपये देने का आरोप लगाया है।जब जाखड़ से इस बाबत संपर्क किया गया तो उन्होंने आईएएनएस से कहा कि उनका बेटा पिछले 14-15 वर्षों से उनके साथ नहीं रह रहा है।

उदय ने आरोप लगाते हुए कहा, ”उन्होंने (बलबीर ने) टिकट के लिए केजरीवाल को 6 करोड़ रुपये दिए हैं…मेरे पिता ने मुझे बताया कि उन्होंने केजरीवाल को इस रकम का भुगतान किया है।” बेटे के इस दावे पर आप प्रत्याशी बलबीर सिंह जाखड़ ने कहा, ”मुझ पर लगाया गया आरोप आधारहीन है। मैं हाल के दिनों में अपने बेटे से नहीं मिला हूं। उसने चुनाव से पहले मेरी छवि खराब करने की चाल है।” झाखड़ ने कहा, ”उसका (उदय) का जन्म और पालनपोषण नाना-नानी के पास हुआ है। मेरा 2009 में तलाक हो चुका है। हमारी मुलाकात भी काफी समय बाद होती है। वह हर महीने चीजों की मांग के लिए मुझसे संपर्क करता है।” उन्होंने साथ ही कहा कि उदय उनका उपनाम जाखड़ नहीं लगाता और उन्हें यह भी पता नहीं है कि उसने 12वीं पास कर लिया है या नहीं।

उदय ने आरोपों की झड़ी लगाते हुए कहा, ”सबसे आ>र्यजनक यह है कि केजरीवाल जो कि भ्रष्टाचार रोधी अभियान में शामिल थे, वह इतने भ्रष्ट हैं और पैसे ले रहे हैं।” उदय ने कहा कि उनके पिता उनलोगों में से एक हैं जिन्होंने कांग्रेस नेता सज्जन कुमार को बचाने की कोशिश की, जिन्हें 1984 सिख विरोधी दंगा मामले में दिल्ली उच्च न्यायालय ने उम्रकैद की सजा सुनाई है। उदय ने कहा, ”मेरे पिता ने भी अदालत में सज्जन कुमार का प्रतिनिधित्व करने का निर्णय लिया। कुमार को जमानत दिलवाने के लिए उन्हें काफी पैसे दिए गए थे।” उदय ने जोर देकर कहा कि उसका किसी भी राजनीतिक पार्टी से कोई संबंध नहीं है। साथ ही उसने कहा कि उसके पास इस बात के सबूत हैं कि टिकट के लिए पैसे दिए गए थे।

 

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.