24 घंटे AC रूम में बैठने से आप दे रहें है बीमारियों को न्योता

रात-दिन एसी के सामने बैठे रहना मतलब इन बीमारियों को न्योता देना

एक अध्ययन में पाया गया है कि भले ही लोग एसी को लक्जरी लाइफस्टाइल से जोड़कर देखते हों लेकिन सच्चाई ये है कि एसी में 24 घंटे बैठे रहना सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है। बीते कुछ समय में एसी का इस्तेमाल अचानक से बढ़ गया है। गर्मियों में प्रदूषण और ग्लोबल वॉर्मिंग की वजह से धरती का तापमान इतना अधिक हो जाता है कि एसी के बिना काम भी नहीं चलता।

ऐसे में जो लोग अफोर्ड कर पाते हैं वो एसी लगवाने में जरा भी देर नहीं करते हैं। रही बात ऑफिसों की तो आज के समय में ज्यादातर दफ्तरों में एसी लगा ही होता है। ये मूलभूत जरूरत हो चुकी है।

पर सोचने वाली बात ये है कि एक आर्टिफिशियल टेंपरेचर में बहुत देर तक रहना किस हद तक खतरनाक हो सकता है, इस ओर कभी भी हमारा ध्यान ही नहीं जाता है। इस टेंपरेचर के बदलाव का सबसे बुरा असर हमारे इम्यून सिस्टम पर पड़ता है। अगर आपको लगता है कि आप अक्सर ही बीमार पड़ने लगे हैं, तो हो न हो आपकी इस आदत ने आपके इम्यून सिस्टम को कमजोर कर दिया है। एसी के सामने ज्यादा वक्त बिताने वालों को होती है ये हेल्थ प्रॉब्लम्स…

एलर्जीः कई बार ऐसा होता है कि लोग एसी को टाइम टू टाइम साफ करना भूल जाते हैं, जिससे एसी की ठंडी हवा के साथ ही डस्ट पार्टिकल भी हवा में मिल जाते हैं। सांस लेने के दौरान ये डस्ट पार्ट‍िकल शरीर में प्रवेश कर जाते हैं, जिससे इम्यून सिस्टम पर असर पड़ता है।

साइनस की प्रॉब्लमः  प्रोफेशनल्स की मानें तो जो लोग एसी में चार या उससे अधिक घंटे रहते हैं , उनमें साइनस इंफेक्शन होने की आशंका बहुत बढ़ जाती है। दरअसल, बहुत देर तक ठंड में रहने से मांसपेशियां सख्त हो जाती हैं।

थकानः अगर आप एसी को बहुत लो करके सोते हैं या उसके सामने बैठते हैं तो आपको हर समय कमजोरी और थकान रहने लगेगी।

वायरल इंफेक्शनः बहुत अधिक देर तक एसी में बैठने से, फ्रेश एयर सर्कुलेट नहीं हो पाती है। ऐसे में फ्लू, कॉमन कोल्ड जैसी बीमारियां होने का खतरा बहुत बढ़ जाता है।

आंखों का ड्राई हो जानाः एसी में घंटों बिताने वालों में ये प्रॉब्लम सबसे ज्यादा कॉमन है। एसी में बैठने से आंखों ड्राई हो जाती हैं। एसी में बैठने का ये असर स्क‍िन पर भी नजर आता है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.