नेशनल अवार्ड विजेता एक्टर सीताराम पांचाल का निधन

अंतिम समय में मांगी थी आर्थिक मदद

मुंबई: पान सिंह तोमर और पीपली लाइव जैसी फिल्मों में काम कर शोहरत पाने वाले एक्टर सीताराम पांचाल का गुरुवार सुबह 8:30 बजे निधन हो गया। वह पिछले चार साल से किडनी और लंग कैंसर से जूझे रहे थे, जीवन के अंतिम दिनों में वह आर्थिक तंगी से गुजर रहे थे।

इस वजह से उन्होंने महंगा इलाज छोड़कर आयुर्वेद से अपना उपचार करने की कोशिश की थी, कुछ समय पहले उनकी मदद के लिए सोशल मीडिया पर एक पोस्ट भी वायरल हुई थी, जिसमें लिखा था, भाइयों मेरी मदद करो, कैंसर से मेरी हालत खराब होती जा रही है। कई दिनों तक बीमारी से लड़ने के बाद गुरुवार की सुबह उनका देंहात हो गया। सीताराम पांचाल ने स्लमडॉग मिलेनियर, द लीजेंड ऑफ भगत सिंह, जॉली एलएलबी, सारे जहां से महंगा, हल्ला बोल, बैंडिट क्वीन जैसी फिल्में भी की हैं।

पांचाल को आर्थिक मदद देने के लिए बालीवुड से इरफान खान, पांचाल के एनएसडी बैचमेट संजय मिश्रा, रोहिताश गौड़, टीवी प्रोड्यूसर (एक घऱ बनाऊंगा) राकेश पासवान आदि शामिल हैं। ट्विटर पर फिल्म डायरेक्टर अश्विनी चौधरी जैसे कई लोग उनके सपोर्ट में आगे आए हैं। लेकिन इसके बाद भी उनकी कोई मदद नहीं हो सकी।

बता दें कि पांचाल ने अश्विनी की डेब्यू हरियाणवी फिल्म लाडो में काम किया था जिसे नेशनल अवॉर्ड मिला था, सीताराम पांचाल का जन्‍म हरियाणा के कैथल जिले के डूंडर हेड़ी गांव में 1963 में हुआ था। उन्होंने हरियाणवी फिल्म लाडो के अलावा छन्नो में भी काम किया, पांचाल को स्‍कूल के दिनों से ही अभिनय पसंद था, ग्रेजुएशन के बाद दिल्ली के नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा में उनका सि‍लेक्शन हो गया था, उसके बाद से वे हिंदी फिल्मों में अलग अलग चरित्र भूमिकाओं में दिखते रहे हैं, पांचाल अपने घर में अकेले कमाने वाले थे, उनका 19 साल का एक बेटा है, जो अभी पढ़ाई कर रहा है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.