पेट्रोल-डीजल पर राहत नहीं, देना होगा टैक्स

नई दिल्ली: केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार एक तरफ पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों को लेकर विपक्ष के निशाने पर है। पेट्रोल के दाम पिछले तीन वर्षों के सबसे उच्चतम स्तर पर पहुंच गए हैं। वहीं आज केंद्रीय पर्यटन मंत्री अल्फोंस कन्नाथनम ने इस वृद्धि को आम जनता के हित में सही करार दिया। अल्फोंस कन्नाथनम ने विपक्ष की पेट्रोल-डीजल पर टैक्स कम करने की मांग को नकारते हुए पेट्रोल-डीजल के दामों में टैक्स बढ़ाने तक की वकालत कर दी। कन्नाथनम ने बाकायदा इसके लिए तर्क भी दिए।

अल्फोंस कन्नाथनम ने शनिवार को पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों पर कहा, ‘पेट्रोल-डीजल कौन खरीदता है जिसके पास बाइक या कार हो, निश्चित तौर पर वह भूखा नहीं मर रहा। जो चुकाने की क्षमता रखता है, उसे टैक्स देना होगा।’ अल्फोंस कन्नाथनम यही नहीं रुके उन्होंने कहा, ‘हम यहां वंचितों के कल्याण के लिए हैं। हम हर गांव में बिजली, घर और शौचालय की व्यवस्था करेंगे। इसमें काफी खर्च आएगा इसलिए हम उन लोगों पर टैक्स लगांएगे जो टैक्स चुकाने की क्षमता रखते हैं।’ गौरतलब है कि पेट्रोल डीजल के दाम पिछले तीन वर्षों के सबसे उच्चतम स्तर पर है इसको लेकर केंद्र तमाम विपक्षी दलों के निशाने पर हैं। मंत्रालय ने 16 जून से देशभर में पेट्रोल-डीजल के दाम रोजाना निर्धारित करने का फैसला किया था।

वहीं केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने इस मामले पर सिर्फ इतना कहा है कि सरकार बढ़ती दरों पर नजर रख रही है। उन्होंने इस वृद्धि का कारण अंतराष्ट्रीय बाजार में ईंधन के बढ़ते दाम बताया है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.