इमरान खान को पाकिस्तान का ‘वजीर-ए-आजम’ बनना लगभग तय

इस्लामाबाद-नई दिल्ली: इस बार पाकिस्तान में चुनावी घमासान नवाज शरीफ की पार्टी पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (PML-N) और इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (PTI) के बीच है। वहीं बिलावल भुट्टो जरदारी की अगुवाई वाली द पाकिस्तान पिपुल्स पार्टी (PPP) भी रेस में है। आपको बता दें कि पाकिस्तान में कुल 110 राजनीतिक पार्टियां हैं। जिसमें से 30 सक्रिय हैं और अधिकतर चुनाव में अपना भाग्य आजमा रही हैं

पाकिस्तानी चैनल डॉन न्यूज़ के सर्वे के मुताबिक, इमरान खान की पार्टी तहरीक-ए-इंसाफ को इस बार पाकिस्तान की जनता का एक बड़ा समर्थन मिल रहा है। खासतौर पर युवाओं की पहली पसंद इमरान खान बन गए हैं। इसके अलावा कुछ आतंकवादी संगठनों ने भी तहरीके इंसाफ को अपना समर्थन देने की बात कही है।

हिंसा की आशंका के बीच लाखों की संख्या में लोगों ने घर से बाहर निकलकर अपने मताधिकार का प्रयोग किया है। पश्चिमी पाकिस्तान के क्वेटा शहर के एक मतदान केंद्र के बाहर हुए एक आत्मघाती हमले में 30 से ज़्यादा लोगों की मौत हो गई है।

सुबह आठ बजे तक पीटीआई 114, पीएमएल (एन) 64 पर, पीपीपी 42 और अन्‍य 50 सीटों पर आगे
इमरान खान की पार्टी की बढ़त बरकरार, नवाज शरीफ सरकार के कई मंत्री चुनाव हारे। प्रांतीय असेंबली में पीटीआई  और पीएमएल (एन) के बीच कांटे की टक्‍कर

नवाज शरीफ के भाई शहबाज शरीफ ने कहा कि पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज) धांधली की वजह से 2018 के चुनाव नतीजों के खारिज करता है। हमारे एजेंट को फॉर्म 45 नहीं दिया जा रहा है। नतीजों को रोक दिया गया है। हमारे पोलिंग एजेंट के गैर हाजरी में वोटों की गिनती की जा रही है। । । इसे किसी भी हालत में स्वीकार नहीं किया जा सकता।

इमरान ख़ान की पार्टी तहरीक़-ए-इंसाफ़ ने सोमवार को रोड टू नया पाकिस्तान नाम से चुनावी घोषणापत्र जारी किया, जिसमें भारत के साथ बेहतर रिश्ते का वादा किया गया है। घोषणापत्र में भारत के साथ शांति सुनिश्चित करने के लिए नीतियां बनाने की बात कही गई है। साथ ही कश्मीर मुद्दे को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों के तहत सुलझाने की भी बात कही गई है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.