मध्य प्रदेश के मंदसौर में बच्ची से निर्भया जैसी दरिंदगी

रतलाम. मंदसौर में मासूम के साथ हुई हैवानियत ने दिल्ली के निर्भया कांड की याद ताजा कर दी है। जिस स्थिति में उसे उपचार के लिए इंदौर लाया गया था, डॉक्टर भी देखकर सहम गए थे। बच्ची की आंत और नाजुक अंग भीतर से अलग हो गया है। डॉक्टरों का मानना है कि दुष्कर्म से ऐसा नहीं हुआ है। दुष्कर्म के बाद उसके नाजुक अंग में कोई कठोर वस्तु डाली गई है।

जिसके कारण उसकी आंतें बाहर आ गई थी। हालांकि शरीर से बाहर नहीं निकली, लेकिन अंदर गहरी चोट पहुंची। एमवायएच अस्पताल में विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम ने अब तक उसके दो ऑपरेशन पोलोस्ट्रामी और कम्प्लीटप्लेटेनियन टीयर रिपेयर सर्जरी की गई है। सर्जरी 6 से 7 घंटे तक चली है। उसके गले में ही सात टांके लगाना पड़े हैं। बच्ची को एमवायएच के आईसीयू में रखा गया है। बच्ची को जब भी होश आता है वह कहती है, अंकल ने मेरे साथ गंदा काम किया। डॉक्टर्स का कहना है कि बच्ची की स्थिति अब पहले से काफी बेहतर और स्थिर बनी हुई है।

मासूम बच्ची के साथ दुष्कर्म कर हत्या के इरादे से उस पर किए वार के बाद मंदसौर के साथ पूरे जिले सहित कई जगहों पर लोग सड़कों पर उतर आए। इस हैवानियत पर शहर की सड़कों पर सहानुभूति का हुजूम उमड़ पड़ा। हजारों की तादाद में यहां जमा हुए लोगों में हर एक के स्वर में एक ही आवाज थी फांसी दो, फांसी दो जैसे नारों के साथ पूरा शहर गूंज उठा। बढ़ते जनआक्रोश के बीच सभी ने दुकानें बंद रखकर विरोध जताया। शाम तक प्रदर्शन होते रहे।

मासूम से दुष्कर्म के खिलाफ लोग इतने आक्रोशित थे कि पुलिस आरोपी को कोर्ट तक ले जाने की हिम्मत नहीं जुटा पाई। बाद में प्रथम श्रेणी न्यायिक मजिस्ट्रेट शबनम कादिर मंसूरी अजाक थाने पहुंचे, यहीं आरोपी को उनके सामने पेश किया गया। कोर्ट ने आरोपी इरफान उर्फ भय्यु को 5 दिन के पुलिस रिमांड पर भेजने के आदेश जारी किए। पुलिस अधीक्षक मनोज सिंह ने बताया कि आरोपी इरफान के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया है।

घटना के विरोध में बंद का आह्वान हुआ। मंदसौर शहर के साथ पूरे जिले में इसका असर दिखाई दिया। सैंकड़ों लोग सड़कों पर उतरे तो वहीं बाजार में लोगों ने स्वत: ही दुकानें बंद रखकर समर्थन दिया। शहर से लेकर जिले के सभी जगहों पर बाजार घटना के विरोध में बंद रहे। बाजारों में पसरा सन्नाटा लोगों के मन में घटना के आक्रोश को बयां कर रहे थे। सुबह से सड़कों पर जमा हुए लोग दोपहर बाद तक सड़कों पर डटे रहे। नीमच, मंदसौर मेंं शुक्रवार को भी बाजार बंद रखे गए है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.