टॉपर से सामूहिक दुष्कर्म मामले में अब तक कोई गिरफ्तारी नहीं

चंडीगढ़: हरियाणा पुलिस, बोर्ड टॉपर के साथ सामूहिक दुष्कर्म में शामिल अपराधियों की तलाश में लगी हुई है। इस भयावह अपराध के चार दिनों बाद भी कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है।पुलिस सूत्रों ने रविवार को कहा कि अपराध में शामिल तीनों आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए विभिन्न जगहों पर छापेमारी की जा रही है।पुलिस आरोपियों के संबंधियों, दोस्तों व साथी गांववालों से उनके ठिकानों के बारे में पूछताछ कर रही है।पुलिस ने शनिवार को महेंद्रगढ़ जिले में 19 साल की बोर्ड परीक्षा टॉपर से सामूहिक दुष्कर्म मामले में पूछताछ के लिए दो लोगों को हिरासत में लिया।

विशेष जांच दल (एसआईटी) की प्रमुख नाजनीन भसीन ने मीडिया से रेवाड़ी में कहा कि चिकित्सकीय जांच में लड़की से दुष्कर्म की पुष्टि हुई है। उन्होंने कहा कि आरोपी के बारे में सूचना देने वाले व्यक्ति को एक लाख रुपये का इनाम मिलेगा।आरोपियों में एक पंकज नाम का सैनिक और दो युवक मनीष व निशू शामिल हैं। सभी कनीना गांव के रहने वाले हैं। कनीना, चंडीगढ़ से दूरी 320 किमी है।पुलिस ने एक स्थानीय चिकित्सक को हिरासत में लिया है, जिसे आरोपियों ने बुधवार (12 सितम्बर) को दुष्कर्म करने के बाद पीड़िता की हालत बिगड़ने पर बुलाया था।

पुलिस अधिकारियों का कहना है कि चिकित्सक ने पीड़िता का प्राथमिक उपचार किया था। उसे आरोपियों ने धमकी दी थी। उसने पीड़िता के साथ दुष्कर्म किए जाने की बात जानने के बाद भी पुलिस को सूचना नहीं दी।
पुलिस ने एक किसान दयानंद से भी पूछताछ की है। दयानंद के स्वामित्व वाले खेत में बने एक कमरे में आरोपियों ने पीड़िता के साथ दुष्कर्म किया।राज्य के पुलिस महानिदेशक बी.एस.संधू का दावा है कि आरोपियों के गिरफ्तार किया जाएगा, इसके बावजूद पुलिस ऐसा करने में अभी तक विफल रही है।पीड़िता व उसके माता-पिता पहले कह चुके हैं ने कहा था कि पुलिस मामले में कार्रवाई नहीं कर रही है और इसमें लापरवाही बरत रही है।

पीड़िता अपने साथ दुष्कर्म करने वाले आरोपियों को पहचानती है।आरोपी भी पीड़िता के गांव के रहने वाले हैं और वह उन्हें जानती है। आरोपियों ने कथित तौर पर कनीना बस स्टैंड से पीड़िता का अपहरण किया, जब वह कोचिंग क्लास जा रही थी।पीड़िता ने कहा कि उन्होंने उसे पीने का पानी दिया, जिसमें कुछ नशीला पदार्थ मिला था। इसके बाद आरोपियों ने खेत से लगे कमरे में उसके साथ दुष्कर्म किया।बाद में इनमें से एक आरोपी मनीष ने गांव के पास के एक बस स्टॉप पर उसे फेंक दिया और पीड़िता के पिता को फोन कर उसे बस स्टॉप से ले जाने को कहा।पीड़िता कॉलेज में दूसरे साल की छात्रा है। उसने बोर्ड परीक्षा में टॉप किया था और उसे सरकार द्वारा सम्मानित किया गया था।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.