अगवा मासूम का शव मिला, एक को बचाया गया, आरोपी गिरफ्तार

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर जिले में छह साल के मासूम प्रियांश का शव शुक्रवार को अपहरणकर्ताओं के अड्डे से पाया गया जबकि उसके बड़े भाई दिव्यांश (8) को घायल अवस्था में किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) में भर्ती कराया गया, जहां उसकी हालत नाजुक बनी हुई है।पुलिस ने शुक्रवार को कहा कि घटना के सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।पुलिस के मुताबिक घटना गुरुवार की है, जब स्कूल से घर लौटते वक्त रास्ते में दोनों भाइयों का अपहरण कर लिया गया था। अपहरणकर्ताओं ने व्यापारी पिता से उनकी रिहाई के लिए 50 लाख रुपये की फिरौती मांगी थी।

मामले की जांच कर रहे पुलिस अधीक्षक अनुराग वत्स ने शक के आधार पर जब नौकर रघुवर यादव से सख्ती से पूछताछ की तो उसने घटना की साजिश का खुलासा कर दिया। इसके बाद पुलिस ने कारौंदिया इलाके में अपहरणकर्ताओं के साथ एक मुठभेड़ के बाद दिव्यांश को बचाया। अपहणकर्ताओं ने दोनों बच्चों को एक कमरे में बंद कर रखा था, जहां से प्रियांश का शव बरामद किया गया।पुलिस के मुताबिक, घर के नौकर रघुवर ने ही बच्चों की मुलाकात अपहरणकर्ताओं से करवाई थी और छुप्ती के बाद उन्हीं के साथ वापस जाने की सलाह दी थी।

पुलिस ने मामले में सभी चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है, जिनमें से एक को गोली लगी है।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घायल बच्चे से मुलाकात की है और मृतक प्रियांश के परिवार के लिए पांच लाख रुपये के मुआवजे की घोषणा की है। मुख्यमंत्री ने कहा सभी अपहरणकर्ता गिरफ्तार कर लिए गए हैं। घायल बच्चे के इलाज में कोई कमी नहीं आने दी जाएगी। सभी जरूरी निर्देश दे दिए गए हैं। दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाई जाएगी। इसके साथ ही उन्होंने दिव्यांश के परिवार को भरोसा दिलाया कि बच्चे के इलाज के लिए पुख्ता व्यवस्था की गई है।एक अधिकारी ने आईएएनएस से कहा कि दिव्यांश के इलाज के लिए परिवार को दो लाख रुपये प्रदान करने के लिए निर्देश जारी किए गए हैं।इस घटना में घरेलू सहायक के संलिप्त होने को गंभीरता से लेते हुए पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) को भी घरेलू नौकरों के सत्यापन की मुहिम राज्य भर में चलाने के निर्देश जारी किए गए हैं।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.