पहाड़ी मंदिर की दान पेटी से कुल 8.51 लाख रुपये निकले

दूसरे दिन दान पेटी से निकले 1,49,246 रुपये

रांची: पहाड़ी मंदिर पर रखे दान पेटियों में डाले गये पैसों की गिनती सोमवार को पूरी हो गयी। दूसरे दिन भी यहां रखे सभी 22 दान पेटियों की गिनती एक साथ शुरू की गयी। पहाड़ी मंदिर विकास समिति की सचिव सह एसडीओ गरिमा सिंह के निर्देश के आलोक में दान पेटी में डाले गये पैसों की गिनती शुरू की गयी है। दूसरे दिन दान पेटी 1,49,246 रुपये मिले हैं। इस तरह दो दिनों के भीतर दान पेटी में डाले गये पैसों की गिनती कर ली गयी। श्रद्धालुओं ने सभी दान पेटियों में 8.51 लाख रुपये डाले थे।पहले दिन मिले थे नेपाली सिक्के

पहले दिन की गिनती कर रहे कर्मचारियों को ब्रिटिश काल के चार सिक्के मिले थे। हैं। इसके अलावा पांच रुपये का नेपाली नोट और सिक्का मिला है। साथ ही चांदी के नाग-नागिन और बेलपत्र भी मिले हैं। पहले दिन सभी दान पत्रों से 7,01,800 रुपये नकद मिले थे। देर शाम में गिनती रोक दी गयी थी। सोमवार की सुबह 8 बजे से फिर दान पत्रों में रखी राशि की गिनती की गयी और दो बजे तक पूरी कर ली गयी। गिनती में इनका मिला सहयोग

नोटों की गिनती में पहाड़ी मंदिर विकास समिति के अलावा जिला प्रशासन की ओर से प्रतिनियुक्त कर्मचारियों ने सहयोग किया। इनमें चंचल किशोर प्रसाद, केके वर्मा, दिलीप कुमार गुप्ता, रमेश कुमार रविदास, रंजीत कुमार, भानु प्रताप शाही, सुनील कुमार सिंह, विमल कुमार, प्रदीप रफाईल खलखो, चमरू महली, सामुएल टोप्पो, अनुप मिंज, हलधर महतो और एलएन पाल ने दान पेटी में रखे पैसों की गिनती की है। दंडाधिकारी सगार कुमार के नेतृत्व में सुबह 8 बजे से दान पेटी में रखे पैसों की गिनती शाुरू की गयी थी।
फैक्ट फाईल
पहले दिन मिले 7,01,800 रुपये
दूसरे दिन मिले 1,49,246 रुपये
कुल राशि मिले 8,51,046 रुपये
कोट
पहाड़ी मंदिर पर रखे सभी 22 दान पेटियों में श्रदधालुओं द्वारा दान किये गये पैसों की गिनती पूरी कर ली गयी। दो दिनों के भीतर पहाड़ी बाबा के दान पेटी से 8.51 लाख रुपये निकाले गये। दंडाधिकारी सागर कुमार की देखरेख में नोटों और सिक्कों की गिनती शुरू की गयी। पहले दिन सात लाख एक हजार आठ सौ रुपये नकद मिले थे और दूसरे दिन 1,49,246 रुपये। पहले दिन ब्रिटीश काल के सिक्के और नेपाली सिक्के भी मिले थे-अभिषेक आनंद, कोषाध्यक्ष, पहाड़ी मंदिर विकास समिति सह अध्यक्ष सचिव पंडरा बाजार समिति।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.