नक्सली अब लेवी से वसूले पैसों को लगा रहे है म्यूचुअल फंड में

कई बड़े नक्सली नेता कर चुके है ऐसे कंपनी में निवेश

पुलिस मुख्यालय ने सीआईडी को पत्र भेज दिया है जांच का निर्देश
रांची। नक्सलियों द्वारा लेवी से वसूले गए पैसों को म्यूचुअल फंड में निवेश करने की बात सामने आने के बाद से पुलिस मुख्यालय चिंतित है। पुलिस मुख्यालय ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच करने का निर्देश दिया है। आईजी अभियान आशीष बत्रा ने सीआईडी को जांच कर कार्रवाई रिपोर्ट की मांग किया है। सीआईडी को भेजे गए पत्र में एनआईए डीआईजी केबी वंदना की रिपोर्ट का हवाला दिया गया है। इसमें कहा गया है कि कंपनियों के ऑपरेशनल स्ट्रक्चर और वित्तीय लेन-देन के तौर तरीकों की जांच करें। ऐसी कंपनियों द्वारा किस तरह से आम लोगों को भी ठगा जा रहा है, इससे संबंधित भी जांच कर रिपोर्ट मांगा है। कुल 13 लोगों की सूची सीआईटी को भेजी गयी है। पुलिस मुख्यालय से पत्र मिलने के बाद सीआईडी एसपी ने रांची सीआईडी टीम को जांच कर दस दिनों में रिपोर्ट सौंपने की निर्देश दिया है।
:::::::::::::::::::
कई बड़े नक्सली नेता ने किया है निवेश
झारखंड पुलिस की सूची में 25 लाख के ईनामी रहे नक्सली नेता बालकेश्वर उरांव उर्फ बड़ा विकास ने 26.50 लाख और 15 लाख के ईनामी छोटू खेरवार ने 1.80 लाख रुपये का निवेश म्यूचुअल फंड में किया है। एनआईए की जांच में इस बात का खुलासा हुआ था। एनआईए ने पूरे साक्ष्य एकत्रित करने के बाद जांच रिपोर्ट तैयार की। इसके बाद एनआईए डीआईजी केबी वंदना ने इससे संबंधित जांच रिपोर्ट झारखंड पुलिस मुख्यालय, आयकर विभाग के निदेशक को जांच के लिए भेजा था। हालांकि, दोनों विभाग की जांच रिपोर्ट अभी तक पूरी नहीं हुई है। जांच रिपोर्ट आने के बाद अन्य मामलों का खुलासा होगा।
:::::::::::::::::::::::::::
कैसे हुआ मामले का उद्भेदन
लातेहार स्थित बालूमाथ पुलिस ने सहारा बैंक के मैनेजर चंदन कुमार को तीन लाख के पुराने नोट के साथ गिरफ्तार किया था। पुलिस ने यह कार्रवाई 21 दिसंबर 2016 को किया था। पुलिस ने गिरफ्तार चंदन कुमार से पहले पूछताछ की, तो कोई खास जानकारी नहीं दिए। इसके बाद पुलिस ने सख्ती से पूछताछ की, तो मामले का उद्भेदन हुआ। बैंक मैनेजर ने पुलिस को बताया कि नक्सली कमांडर छोटू खेरवार की पत्नी ललिता के खाते में 64 किस्तों में 15 लाख जमा कराया था। इस मामले में बालूमाथ पुलिस ने बैंक मैनेजर चंदन कुमार, छोटू खेरवार, खेरवार के करीबी संतोष उरांव, उसकी पत्नी ललिता के खिलाफ नामजद प्राथमिकी दर्ज किया था। इस मामले में एनआईए ने भी वर्ष 2018 में आरसी 1/18 दर्ज कर जांच शुरु किया था।
:::::::::::::::::::::::
रांची, बेड़ो, कोलकाता समेत अन्य जगहों पर खोला था ऑफिस
एनआईए की जांच में कई तथ्य सामने आये है। इसमें एनआईए ने पाया कि नक्सली संगठन निवेशकों को छह साल में पैसा दोगुना करने की बात कहते थे। अपना कार्यालय भी कई जगहों पर खोल रखा था। जिसमें रांची, बेड़ो, कोलकाता, इलाहाबाद समेत अन्य जगह शामिल है। कई साक्ष्य सामने आने के बाद एनआईए ने राज्य पुलिस को इन कंपनियों पर कार्रवाई के लिए लिखा था। एनआईए का पत्र मिलने के बाद से पुलिस मुख्यालय इस मुद्दे पर काफी गंभीर है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.