मैट्रिक-इंटर की परीक्षा आज से , जैक तैयार

दोनों परीक्षाओं में राज्य भर से शामिल होंगे 7,57109 परीक्षार्थी

खबर मन्त्र, संवाददाता
रांची। झारखंड एकेडमिक काउंसिल (जैक) की मैट्रिक और इंटर की परीक्षा में राज्य भर से 7,57109 परीक्षार्थी शामिल हो रहे हैं। मैट्रिक की परीक्षा 9:45 से 1 बजे तक तथा इंटर की 2 से 5:15 बजे तक चलेगी। परीक्षा शुरू होने से एक घंटा पहले सेंटर पर पहुंचने का निर्देश है। जैक अध्यक्ष डॉ. अरविंद प्रसाद सिंह ने कहा कि कदाचारमुक्त व शांतिपूर्ण परीक्षा की तैयारी कर ली गई है। इन्होंने कहा कि परीक्षार्थी कदाचार करते पकड़े गए तो इसके लिए वीक्षक व केंद्राधीक्षक जिम्मेदार होंगे। परीक्षार्थियों के चिट-पुर्जे की जांच के बाद केंद्र में प्रवेश कराएं। जैक अध्यक्ष ने कहा कि परीक्षा कक्ष में वीक्षकों को भी मोबाइल नहीं ले जाना है।
80 आब्जर्वर रखेंगे परीक्षा पर नजर

परीक्षा पर नजर रखने के लिए जैक ने 80 आब्जर्वर को लगाया है। जिलों में सेंटरों की संख्या के अनुसार टीम लगाई जाएगी। बड़े जिलों में 5-6 टीम तो छोटे जिलों में एक टीम काम करेगी। प्रत्येक टीम में दो-दो लोग हैं। आब्जर्वर में प्रोफेसर व जैक के पूर्व सदस्य शामिल हैं। ये सीधे तौर पर जैक से संपर्क में रहेंगे। यदि आब्जर्वर को कहीं कोई समस्या दिखेगी तो वे तत्काल जिला प्रशासन से संपर्क कर समस्या का निराकरण करेगी।

गले में लटका कर रखें पहचान पत्र
दोनों परीक्षाओं के लिए सभी वीक्षकों को पहचान पत्र जारी किया गया है। निर्देश दिया गया है कि परीक्षा के दौरान केंद्र में अपना पहचान पत्र गले में लटका कर रखें। इससे बाहरी व्यक्ति के प्रवेश पर पहचान हो जाएगी और कोई परीक्षा केंद्र में प्रवेश नहीं करेगा। सामान्य तौर पर देखा जाता है वीक्षक पहचान पत्र को पॉकेट में रख लेते हैं।

काम करने लगा जैक का नियंत्रण कक्ष
परीक्षा के सफल संचालन के लिए जैक का नियंत्रण कक्ष चल रहा है। यह परीक्षा तक सुबह आठ से शाम सात बजे तक खुला रहेगा। परीक्षा संबंधी किसी भी तरह की जानकारी 7485093433, 7485093436, 7485093440 पर ले सकते हैं।

दिव्यांग को मिलेंगे अतिरिक्त समय
जैक सचिव महीप कुमार सिंह ने बताया कि दिव्यांग परीक्षार्थियों को अतिरिक्त समय दिया जाएगा। हर एक घंटे पर 20 मिनट का अतिरिक्त समय देने का प्रावधान है। इन्हें लेखक भी उपलब्ध कराया जाएगा। कोई परीक्षार्थी अचानक बीमार पड़ जाते हैं या दुर्घटना के शिकार हो जाते हैं तो इन्हें भी परीक्षा लिखने के लिए लेखक मिलेगा। लेकिन बीमार या दुर्घटना की जांच असिस्टेंट सर्जन करेंगे। यदि सही पाया गया तो सेंटर सुप्रीटेंडेंट एक विद्यार्थी उपलब्ध कराएंगे जो परीक्षार्थी से नीचे की कक्षा के होंगे। साथ ही ये नि:शुल्क भी होंगे। इनके लिए अलग कमरे की व्यवस्था की जाएगी और यहां एक असिस्टेंट सुपरिटेंडेंट भी नियुक्त किए जाएंगे। इस संबंध में आवश्यक कार्रवाई जिला शिक्षा पदाधिकारी करेंगे।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.