फीफा विश्व कफ : अंतिम-16 की बाधा पार करना चाहेंगे सुपर ईग्लस

नई दिल्ली: पिछले सात बार में से छह बार फीफा विश्व कप में जगह बनाने वाली नाइजीरियाई टीम, जिसे सुपर ईग्लस के नाम से भी जाना जाता है, बाकी टीमों के लिए किसी खतरे से कम नहीं है। 2014 में यह टीम अंतिम-16 तक पहंुची थी, लेकिन इससे आगे नहीं जा पाई थी।तीन बार यह टीम अंतिम-16 में पहुंच पाई है, लेकिन सफलता हाथ नहीं लगी। इस बार सुपर ईगल्स कहानी को बदलने चाहेंगे। विश्व कप के लिए क्वालीफाई करने में इस टीम को ज्यादा परेशानी नहीं हुई। अल्जीरिया, जाम्बिया और कैमरून के सामने इस टीम ने बेहतरीन खेल दिखाया और 14 अंकों के साथ विश्व कप में जगह बनाई।

नाईजीरिया खेल के हर मामले में मजबूत मानी जाती है। फीफा रैंकिंग में 47वें पायदान पर कायम यह टीम मैदान के हर कोने में मजबूती से खड़ी होती है और अगर सभी विभागों में यह टीम एक साथ मिलकर तथा सही तालमेल से खेलती है तो अंतिम-16 से आगे जाने की कुब्बत इस टीम में है। टीम के कोच गेर्नोट रोहर की समस्या उसका कमजोर डिफेंस है जो निरंतरता की कमी से जूझत रहा है। कोच ने टीम की जिम्मेदारी युवा कंधों पर दी है। उन्होंने कई अच्छे खिलाडि़यों को टीम से बाहर रख युवाओं पर भरोसा जताया है।

एलेक्स इवोबी, केलेची इहेनाचो और नदिदी मैरी की तिगड़ी पर काफी कुछ निर्भर करेगा। इन तीनों को अच्छी सोच और टीम को मानसिक  तौर पर भी मजबूत रखना पड़ेगा। डिफेंस टीम की कमजोरी है और ऐसे में मजबूत गोलकीपर का न होना टीम को और परेशानी में डाल सकता है। टीम के अनुभवी और शानदार गोलकीपर विसेंट एनयेमा ने अंतर्राष्ट्रीय फुटबाल को अलविदा कह दिया है जबकि कार्ल इकेमे की तबीयत ठीक नहीं है। ऐसे में कोच का भरोसा 19 साल के फ्रांसिस उझोहो ने जीता है जो हाल ही में खेले गए दोस्ताना मैचों में दस्ताने पहने देखे गए हैं।

जॉन ओबी मिकेल टीम के स्टार खिलाड़ी हैं और कप्तान रहते हुए उनकी जिम्मेदारी और भी बड़ जाती है। उनके पास चैम्पियंस लीग, यूरोपा लीग और अफ्रीका कप ऑफ नेशंस का खिताब जीतने का अनुभव है। वह इस युवा टीम की रीढ़ की हड्डी कहे जा रहे हैं। नाइजीरिया को ग्रुप-डी में अर्जेंटीना, क्रोएशिया और आइसलैंड के साथ रखा गया है। अर्जेंटीना से वह पहले भी भिड़ चुकी है लेकिन एक भी बार उसे जीत हासिल नहीं हुई। ग्रुप को देखते हुए उसे अगले दौर में जाने के लिए काफी मशक्कत करनी होगी।

17 जून को वो क्रोएशिया से भिड़ेंगी तो वहीं 22 जून को उसका सामना आइसलैंड से होगा। 26 जून को ईग्ल्स के सामने अर्जेंटीना की चुनौती होग।

टीम :

गोलकीपर : फ्रांसिस यूझोहो, इकेचाुक्वु इजेनेवा, डेनियल अक्पेयी डिफेंडर : विलियम ट्रस्ट-इकोंग, अबुदुल्लाही सेहु, टायरोने इबुएही, एल्डरसन, इचेहिजीले, ब्रायन इडुवो, चिडजोई अवेजेइम, लियोन बालोगुन, केनेथ ओमेरेयु।

मिडफील्डर : मिकेल जॉन ओबी, ओगेनयी ओनाजी, विलफ्राइड नदिदी, ओगेनेकारो इटेबो, जॉन ओगु, जोएल ओबी, अहमद मुसा, केलेची इहेननाचो, विक्टल मोजेज, ओडियोन इघालो, एलेक्स इवोबी, सिमोने न्वान्को।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.